भाकियू व रालोद ने कर दी चुनाव बहिष्कार कर मोर्चा खोलने की घोषणा



मुजफ्फरनगर। अपनी हार देख चुनाव का बहिष्कार करने का घोषणा करते हुए विपक्ष और भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता धरने से वापस लौट गए।

आज हंगामे और बैरिकेटिंग तोडने की घटना के बाद भाकियू  के जिलाध्यक्ष  धीरज लाटियान व रालोद जिलाध्यक्ष अजित राठी ने चुनाव बहिष्कार कर मोर्चा छोडने की घोषणा कर दी। चुनाव का बहिष्कार करने के कार्यकर्ताओं को वापस लौटने का ऐलान कर दिया गया। जिसके साथ सभी कार्यकर्ता वापस चले गए। इससे पूर्व ये लोग भाजपा पर सत्ता के बल पर धांधली का आरोप लगाते हुए हंगामा कर रहे थे। भाजपा समर्थक 27 वोटरों के एकजुट होने और इसमें उन मुस्लिम मतदाताओं के भी शामिल होने से विपक्षी खेमे में अचंभा था, जिन्हें वह अपना जेबी वोटर मान रहा था। ऐसे में उनके बहिष्कार की घोषणा का मतलब समझा जा सकता है। 


एक भाजपा समर्थक ने इसे खिसियानी बिल्ली खंभा नोंचे बताते हुए कहा कि केंद्रीय राज्यमंत्री डाॅ संजीव बालियान और भाजपा के तमाम नेताओं के रण कौशल से विपक्ष पराजित हो गया है। उनके बहिष्कार की घोषणा सियासी नाटक है और इसका चुनाव पर कोई असर नहीं होगा क्योंकि पूरी मतदान की गतिविधियां सीसी टीवी की निगरानी में हो रही हैं। विपक्ष के पास हताशा के अलावा कुछ नहीं बचा है। बाद संयुक्त विपक्ष की बैठक हुई। इसमें सपा रालोद और कांग्रेस नेता मौजूद रहे। 



Comments

Popular posts from this blog

शाहपुर सौरम की महिला सिपाही ने की आत्महत्या

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

प्रदेश में इन विभागों से खत्म हो जाएंगे 48 कानून