Skip to main content

अब प्रदेश में जिलाधिकारी को बिना आवेदन किए नहीं खरीद सकेंगे घर, जमीन और दुकान

 


लखनऊ l प्रदेश में अब जमीन, मकान, फ्लैट, दुकान आदि भू-सम्पत्तियों की कीमत और ऐसी सम्पत्ति की खरीद फरोख्त में रजिस्ट्री करवाने के लिए लगने वाले स्टाम्प शुल्क को जिलाधिकारी तय करवाएंगे। इस बारे में सोमवार को कैबिनेट में स्टाम्प व रजिस्ट्री विभाग की ओर से लाए गए प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी गई।

प्रदेश के स्टाम्प व रजिस्ट्री मंत्री रवीन्द्र जायसवाल ने बताया कि कैबिनेट के इस महत्वपूर्ण निर्णय के बाद अब प्रदेश में भू-सम्पत्तियों की कीमत तय करने और रजिस्ट्री करवाते समय उस पर लगने वाले स्टाम्प शुल्क को तय करने में विवाद नहीं होंगे और इस मुद्दे पर होने वाले मुकदमों की संख्या घटेगी।

उन्होंने बताया कि अब कोई भी व्यक्ति प्रदेश में कहीं भी कोई जमीन, मकान, फ्लैट, दुकान आदि खरीदना चाहेगा तो सबसे पहले उसे संबंधित जिले के जिलाधिकारी को एक प्रार्थना पत्र देना होगा और साथ ही ट्रेजरी चालान के माध्यम से कोषागार में 100 रुपये का शुल्क जमा करना होगा। उसके बाद डीएम लेखपाल से उस भू-सम्पत्ति की डीएम सर्किल रेट के हिसाब से मौजूदा कीमत का मूल्यांकन करवाएंगे। उसके बाद उस सम्पत्ति की रजिस्ट्री पर लगने वाले स्टाम्प शुल्क का भी लिखित निर्धारण होग

स्टांप मंत्री ने बताया कि अभी तक जो व्यवस्था चल रही थी उसमें कोई व्यक्ति भूमि, भवन खरीदना चाहता था तो उस भू-सम्पत्ति का मूल्य कितना है इस पर संशय बना रहता है और खरीददार प्रापर्टी डीलर, रजिस्ट्री करवाने वाले वकील, रजिस्ट्री विभाग के अधिकारी से सम्पर्क करता था और उसमें मौखिक तौर पर उस भवन या भूमि की कीमत तय हो जाती थी, उसी आधार पर उसकी रजिस्ट्री पर स्टाम्प शुल्क लगता था। 

बाद में विवाद की स्थिति पैदा होती थी कि उक्त भू-संपत्ति की कीमत इतनी नहीं बल्कि इतनी होनी चाहिए थी, इस लिहाज से इसकी रजिस्ट्री पर स्टाम्प शुल्क कम वसूला गया। प्रदेश के स्टाम्प व रजिस्ट्री विभाग में ऐसे मुकदमों की संख्या बढ़ती जा रही थी जिस पर अब अंकुश लगेगा। 

Comments

Unknown said…

Phir d.m.Rate list ka Kaya use rahega

Popular posts from this blog

अश्लील वीडियो वायरल : देखिए महिला कर्मचारी के साथ 'साहब' की हरकतें

  लखनऊ । सचिवालय में महिला संविदा कर्मी से छेड़छाड़ का वीडियो वायरल होने से हडकंप मच गया है। इस वीडियो के साथ महिला संविदा कर्मी ने अनु सचिव इच्छाराम यादव पर शोषण का आरोप लगाया है। संविदाकर्मी के साथ छेड़खानी का वीडियो अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में तैनात अनु सचिव इच्छाराम यादव का है। इसमें वह महिला कर्मी से जबरदस्ती करते दिख रहे हैं। बताया जाता है कि वीडियो महिला संविदा कर्मी ने अश्लील हरकतों से तंग आकर वीडियो बनाया। पीड़ित महिला ने लखनऊ के हुसैनगंज थाने में इसे लेकर तहरीर दी है। तहरीर देने के बाद भी पुलिस ने अनु सचिव इच्छाराम यादव पर कोई कार्यवाही नहीं की। महिला का आरोप है कि इच्छा राम यादव उसे धमका रहा है।

मुजफ्फरनगर में बैंक क्लर्क ने दी बनियों को फाड़कर खाने की धमकी, विधायक पंकज मलिक ने किया पटाक्षेप

 मुजफ्फरनगर। अभी नोएडा का श्रीकांत त्यागी वाला मामला ठंडा भी नहीं पड़ा था कि मुजफ्फरनगर में भी कुछ इसी तरीके से बनिया समाज को टारगेट करते हुए विवादित टिका-टिप्पणी की गई। मामला बदतमीजी से शुरू होकर गाली-गलौज और फिर हाथापाई तक पहुंच गया। हैरत इस बात की है कि पुलिस की मौजूदगी में एक बैंक क्लर्क ने बनिया समाज से ताल्लुक रखने वाले ग्राहक को सरेआम कहा कि 'जाट हूं, दो मिनट में बनियों को फाड़कर खा जाऊंगा।' दरअसल, ये पूरा मामला शहर कोतवाली इलाके की प्रेमपुरी स्थित यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शाखा का है। मंगलवार दोपहर किशोर कुमार गोयल का भतीजा किसी कार्य से बैंक शाखा पहुंचा था। जहां एक नीरज राणा नामक क्लर्क ने पहले बदसलूकी की और जब विरोध किया तो आरोपी क्लर्क मारपीट पर आमादा हो गया और उसने गिरेबान पर हाथ डालते हुए उसे बैंक से बाहर निकलवा दिया। क्लर्क के इशारे पर गार्ड ने भी जमकर दबंगई दिखाई। मामले की जानकारी पर बैंक पहुंचे परिजनों के सामने पर भी क्लर्क ने जमकर बदतमीजी की। जिस पर पीड़ितों ने फोन करके मौके पर पुलिस को बुला लिया। हद तो तब हो गई जब बैंक क्लर्क पुलिस के सामने भी आपे से बाहर होते हुए ग्

आपकी वोट बनी है या नहीं, ऐसे चलेगा पता

मुजफ्फरनगर। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार सभी विधानसभा के पोलिंग बूथों पर जहाँ आप अपना वोट डालते हैं वहाँ पर  जाकर पता कर सकते हैं कि आपकी वोट बनी या नहीं।  *07-11-2021 रविवार*  *13-11-2021 शनिवार*  *21-11-2021 रविवार*    *27-11-2021 शनिवार*  सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक  फोटो मतदाता सूची प्रदर्शित की जायेगी, जिसे देखकर आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं, कि आपका नाम मतदाता सूची में है, या नहीं, यदि है तो उसमें कोई गलती तो नहीं है, यदि कोई गलती है, तो आप सुधारने के लिए फार्म भर सकते हैं।   इसके अलावा नए वोटर कार्ड के लिए नए फॉर्म भरें जायेंगें । नया वोटर कार्ड बनवाने के लिए ये कागजात साथ लेकर जाएं।  👉(1) *दो रंगीन पासपोर्ट साइज फ़ोटो* । 👉(2) *राशन कार्ड की फ़ोटो कॉपी*  या 👉(3) *आधार कार्ड की फ़ोटो कॉपी*  या 👉(4) *जन्मतिथि प्रमाण-पत्र की फ़ोटो कॉपी* ।             *(उम्र 18 वर्ष की चाहिए)* 👉(5) *घर के किसी एक सदस्य के वोटर कार्ड की फ़ोटो कॉपी*।  पोलिंग बूथ पर बी.एल.ओ बैठेंगे       👉 *वोटर लिस्ट में अपना नाम जरूर चेक कर लीजिए , इस भरोसे में न रहें कि पिछले लोकसभा/विधानसभा चुनाव में हमने वो