पचेंडा कलां में भी कोरोना से मौतों का कहर

 


मुजफ्फरनगर l शहर से सटे गांव पचेंडा कलां में इस बीमारी के दौरान ही अब तक 25 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। ग्रामवासियों के मुताबिक पिछले लगभग 15-20 दिन में 25 व्यक्ति इस बीमारी की चपेट में आकर अपनी जान गँवा चुके हैं, इनमें से ज्यादातर की कोरोनावायरस जांच नहीं हो पाई थी, कुछ ऐसे भी शामिल हैं जो मुजफ्फर मैडिकल में जाकर कोरोना के कारण जिंदगी की जंग हारे हैं। ग्रामीणों के मुताबिक कर्म सिंह पुत्र हरि ज्ञान, सत्यपाल पुत्र लहतु, मनोज पुत्र छोटाराम, कलावती पत्नी महेंद्र, मुकेश पुत्र अतरू, मलखा पुत्र धनवा ,श्यामो पत्नी धर्मवीर, नरेंद्र पुत्र नैन सिंह, कमलेश पत्नी सत्यवीर, निशा पत्नी चंद्रपाल, किरण वती पत्नी पीतम, वीरवती, बाला पत्नी राम कुमार ,बिल्लू पुत्र लखया, हरेंद्र, राजकुमार पुत्र खिलाड़ी, बबीता पत्नी टोनी, कुसुम पत्नी मेवाराम , बाबूराम पुत्र होशियार सिंह, संत कुमार पुत्र नरेंद्र सिंह, अनिल पुत्र सौदान सिंह, महेंद्र, रामपाल, रामधन पुत्र सौनाथ और धर्मवीर सिंह की पुत्रवधू समेत 25 से ज्यादा लोग इस बीमारी का शिकार बन चुके हैं। ग्रामीणों ने बताया कि आज तक भी स्वास्थ्य विभाग की टीम उनके गांव में नहीं आई है। ग्राम प्रधान धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि 2 दिन पहले समीपवर्ती गांव मुस्तफाबाद में एक स्वास्थ्य विभाग की टीम आई थी और उसने ग्राम में सूचना भिजवाई थी कि जिसे अपनी जांच करानी हो तो वह इस गांव में आ जाए ,9:00 बजे सूचना भिजवाई गई थी कि टीम आ चुकी है और कुछ ही देर बाद टीम वहां से भी वापस लौट गई थी। ग्राम प्रधान ने जिला प्रशासन से मांग की है कि पचेंडा कलां में जहां हजारों की आबादी है और बीमारी बहुत विकराल रूप लेती जा रही है यहाँ तुरंत सघन जांच कराई जानी चाहिए। मुख्यमंत्री सोमवार को ज़िले में आ रहे है और मुस्तफाबाद पचेंडा उन्हें निरीक्षण के लिए भेजे गांवो की सूची में भी शामिल है। यहाँ भी मुख्यमंत्री दौरा कर सकते है।

Comments

Popular posts from this blog

शाहपुर सौरम की महिला सिपाही ने की आत्महत्या

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

प्रदेश में इन विभागों से खत्म हो जाएंगे 48 कानून