कोरोना के मैदान में सेना के रिटायर्ड डॉक्टर्स संभालेंगे मोर्चा


नई दिल्ली। सशस्त्र बलों से पिछले दो साल में सेवानिवृत्त हुए सभी मेडिकल कर्मचारी अपने घरों के पास स्थित कोविड-19 केन्द्रों में काम करेंगे।

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत ने सोमवार को कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए सशस्त्र बलों द्वारा की गई तैयारियों की समीक्षा की। इसके बाद सरकार की ओर से जारी बयान के मुताबिक कमांड, कोर, डिविजन और नौसेना तथा वायुसेना के समान मुख्यालयों में तैनात सभी मेडिकल अफसर अस्पतालों में तैनात किए जाएंगे। अस्पतालों में डॉक्टरों की मदद के लिए बड़ी संख्या में नर्सिंग स्टाफ को तैनात किया जा रहा है। सशस्त्र बलों के विभिन्न प्रतिष्ठानों के पास उपलब्ध ऑक्सीजन सिलेंडर अस्पतालों को दिए जाएंगे।  सशस्त्र बल बड़ी संख्या में मेडिकल प्रतिष्ठान तैयार कर रहे हैं, जहां भी संभव होगा, सेना की मेडिकल सुविधाएं आम लोगों को उपलब्ध कराई जाएंगी। रावत के साथ बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने देश-विदेश से ऑक्सीजन और अन्य आवश्यक सामग्री की भारतीय वायुसेना द्वारा परिवहन की तैयारियों की समीक्षा भी की। ऑक्सीजन की भी डिमांड बढ़ने के बाद सरकार ने भारतीय वायुसेना की मदद से ऑक्सीजनों को एक राज्य से दूसरे राज्य पहुंचा रही है। विदेश से भी ऑक्सीजन आयात किया जा रहा है।

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

शाहपुर सौरम की महिला सिपाही ने की आत्महत्या