ग्रामीण सफाई कर्मचारियों के ख़िलाफ़ सुमित मलिक ने सौंपा डीपीआरओ को ज्ञापन

 मुजफ्फरनगर । जिला राज पंचायत अधिकारी को सुमित मलिक द्वारा दिए गए एक प्रार्थना पत्र में अवगत कराया गया कि जनपद मुजफ्फरनगर में 642 ग्रामीण सफाई कर्मचारी है जो ग्रामीण क्षेत्र में अपनी जिम्मेदारी से बच रहे हैं। अपनी सुविधाओं के अनुसार सरकारी दफ्तर सरकारी आवास पर ड्यूटी दे रहे हैं। बड़े दुर्भाग्य की बात है जहां एक और


कोविड-19 के चलते ग्रामीण क्षेत्र में सफाई पर विशेष ध्यान देने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा निर्देश दिए गए थे कोविड-19 जैसी घातक बीमारी से बचाव के लिए ग्रामीण क्षेत्र में ग्रामीण सफाई कर्मचारी सफाई का विशेष ध्यान रखेंगे। सरकारी विद्यालय सरकारी अस्पताल नाले नाली सार्वजनिक स्थल सभी पर सफाई अभियान चलता रहना चाहिए लेकिन जनपद मुजफ्फरनगर में शासन के आदेश को दरकिनार करते हुए ग्रामीण सफाई कर्मचारी सरकारी दफ्तरों सरकारी आवासों पर अपनी ड्यूटी दे रहे हैं। तनखा का गलत तरीके से हरण हो रहा है जबकि नियम अनुसार तनख्वा का हरण सफाई कर्मचारी का वेतन शासन द्वारा निर्धारित प्रारूप पर संबंधित ग्राम प्रधान के हस्ताक्षर तथा संबंधित सहायक विकास अधिकारी (प्र०) की संस्तुति के आधार पर हरण किया जाता है। सुमित मलिक की आरटीआई के पत्रांक 1256 से जानकारी प्राप्त हुई थी कि जनपद में 642 ग्रामीण सफाई कर्मचारी है जनपद में ग्रामीण सफाई कर्मचारी की तनखा का फर्जी तरीके से हरण होना अपने आप में एक बड़ा सवाल है क्योंकि जनपद में आरटीआई के माध्यम से विभाग के द्वारा जानकारी दी गई थी कि चयन समिति के द्वारा जारी सफाई कर्मचारी की सूची कार्यालय में उपलब्ध नहीं है। जब सफाई कर्मचारी की सूची कार्यालय में उपलब्ध नहीं है तो तनख्वाह का हरण किस प्रकार हो रहा है। गांव पीनना में 4 सफाई कर्मचारी है लेकिन 4 सफाई कर्मचारी में कोई जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय में कार्यरत हैं कोई अन्य जगह पर जहां एक ओर सरकारी विद्यालय का शिक्षा संस्थान शुरू हो चुका है। साफ सफाई पर सरकार का विशेष ध्यान है लेकिन ग्रामीण सफाई कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर नहीं पहुंच पाते इसके चलते ग्रामीण क्षेत्र में बीमारी का सामना ग्रामीणों को करना पड़ रहा है। पीनना और बचन सिंह कालोनी गांव के अंदर से एक बड़ा गंदा नाला गुजर रहा है जिसमें गंदगी का भरमार है मच्छर पैदा हो रहे हैं बीमारी फैल रही है कोविड-19 जैसी घातक बीमारी से बचने के लिए साफ सफाई की अति आवश्यकता है निदेशक पंचायती राज उत्तर प्रदेश के पत्र 2/ 1342/2019-20/43/ विदित/16 मई 2019 निरीक्षण/ कार्यवाही किए जाने के संदर्भ में समस्त मंडल लिए उप निदेशक (पं०) उत्तर प्रदेश की जांच कराकर उन्हें ग्रामीणों में सफाई के लिए भेजने की व्यवस्था करें। जनपद मुजफ्फरनगर के 498 गांव में ग्रामीण सफाई कर्मचारी की ड्यूटी लगवाने की कृपा करें ताकि कोविड-19 जैसी घातक बीमारी से बचने के लिए ग्रामीण क्षेत्र में साफ सफाई की अति आवश्यकता है ग्रामीण सफाई कर्मचारी की ड्यूटी जिस अधिकारी के द्वारा ग्रामीण क्षेत्र से हटाकर सरकारी आवासों पर लगाई गई है उनकी जांच क्राई जाए, क्योंकि शासन के आदेश की अवहेलना हुई है सरकारी विद्यालयों सरकारी संस्थान ग्रामीण क्षेत्र के नाला नाली प्रमुख स्थानों की साफ सफाई होनी अति आवश्यक है।

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

रालोद और भाकियू के नाम पर हुडदंग करने वालों पर लाठीचार्ज, पांच गिरफ्तार