शराब तस्करों ने दबिश पर गए सिपाही की हत्या की, दरोगा गंभीर घायल



 कासगंज। शराब तस्करों को पकड़ने गयी पुलिस को पहले बंधक बनाया गया। फिर बदमाशों ने अशोक नामक दरोगा और देवेंद्र नामक सिपाही के साथ जमकर मारपीट की। सिपाही की मौत हो गई है तो वहीं दरोगा अशोक की हालत गंभीर बताई जा रही है। मुख्यमंत्री ने शहीद पुलिसकर्मी के परिवार के प्रति गहरी संवेदना जताते हुए 50 लाख की आर्थिक सहायता और आश्रित को सरकारी नौकरी देने के निर्देश दिए हैं। 

कासगंज में मंगलवार की शाम दुस्साहसिक वारदात को अंजाम दिया गया। अवैध शराब बनाने की खबर मिलने पर दबिश देने गई पुलिस पर ही शराब माफिया ने हमला कर दिया। सिढ़पुरा थाने के एक दरोगा और सिपाही को बदमाशों ने दौड़ा- दौड़ा कर पीटा। उनकी वर्दी फाड़ दी। असलहे छीन लिये। कई घंटे तलाश के बाद दरोगा और सिपाही जंगल में लहूलुहान हालत में अलग-अलग स्थानों पर मिले। सनसनीखेज घटना से पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। अफसरों के साथ कई थानों का पुलिस फोर्स जंगलों में उतर गया। पुलिस हमलावरों की तलाश में जंगलों में कॉम्बिंग में जुटी हुई थी। सूत्रों के मुताबिक मंगलवार देर शाम करीब सात बजे सिढ़पुरा थाने से दरोगा अशोक पाल, सिपाही देवेंद्र सिंह के साथ क्षेत्र के गांव नगला धीमर में दबिश देने गये थे। कुछ देर में किसी ग्रामीण ने पुलिस को सूचना दी कि कोई व्यक्ति गांव के बाहर लहूलुहान हालत में पड़ा है। सूचना पर थाने से पुलिस की टीम गांव में पहुंच गई। जंगल में तलाशी के दौरान पुलिस को दरोगा अशोक पाल लहूलुहान हालत में पड़े मिले। उनके बदन पर वर्दी भी फाड़ कर अपराधियों ने कहीं फेंक दी थी। घायल हालत में तत्काल पुलिसकर्मियों ने उन्हें गाड़ी से उपचार के लिए जिला अस्पताल भिजवाया। पता चलने पर एसपी मनोज कुमार सोनकर ने कई थानों की पुलिस को जंगल में सिपाही की तलाश में लगी। करीब एक घंटे की तलाश के दौरान काफी दूर जंगल में गंभीर हालत में कांस्टेबल देवेंद्र सिंह पड़ा मिला। बाद में उसकी मौत हो गई।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा