दंगों में झोंकने वाले लोगों को लडा रहे हैंः डाॅ संजीव बालियान


 मुजफ्फरनगर। केंद्रीय राज्य मंत्री डा संजीव बालियान ने आरोप लगाया कि एक साजिश के तहत वे लोग लोगों को लडाने की साजिश कर रहे हैं जो दंगों के जिम्मेदार रहे हैं। 

कल की घटना को लेकर सौरम पहुंचे रालोद अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह के कार्यक्रम के बाद   सोना ईट भट्ठे पर केंद्रीय राज्य मंत्री डाॅ संजीव बालियान  का उनके समर्थकों ने जोरदार स्वागत किया।  सौरम में आज चौधरी अजित सिंह और चौधरी नरेश टिकैत के दौरे के बाद  केंद्रीय राज्य मंत्री डाॅ संजीव बालियान वहां पहुंचे तो  जिंदाबाद के नारे लगाकर उनका स्वागत समर्थकों ने किया। संजीव बालियान ने कहा मेरे पास पुश्तैनी विरासत नहीं चौधरी चरण सिंह का नाम नहीं मेरा बाबा तो रिसाला था। किसानों के नाम पर वोट मांगता होगा नहीं मेरा तो प्रत्येक वोटर अपना है। उन्होंने कहा कि मैं तो हर दिन अपने वोटर के दुख दर्द में शामिल होने जाऊंगा। राज्य मंत्री संजीव बालियान में 2013 के दंगे की याद दिलाते हुए कहा कि जब हम लोग मर रहे थे, मुकदमा झेल रहे थे, तब यह दिल्ली वाले कहां थे। उस समय के एक सपा नेता पर भी मंत्री जी ने कसे तंज। मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि मैंने कप्तान को बोल दिया है कि पूरी तरह से जांच कीजिए, सब के फोन नंबर देखें, किसकी बात कहां हुई, किस तरह 15 मिनट में कुछ नेता शोरम पहुंच गए।उन्होंने कहा कि सात साल में एक महीना बताओ , जब मैं गांव शोरम में ना गया हूं। उन्होंने कहा कि उन्होंने ग्रामीणों के बाईक छुड़वाने से लेकर रिश्तेदारी तक के सभी काम कराये हैं। विगत दिवस वे शोक संवेदना व्यक्त करने गांव शोरम में गये थे। वहां पांच-छह लड़के, जो कि किसी पार्टी के पदाधिकारी थे। उन्होंने शोर मचाया, नारे लगाये। इस पर हाथापाई हुई। इस हाथापाई में एसएचओ की टोपी भी गिर गई। पुलिस ने एक युवक को गाड़ी में बैठा लिया। लेकिन मैंने उसे छुड़वा दिया। मैंने कहा कि अपना ही बच्चा है। छोड़ दो, जो हो गया, सो हो गया। उन्होंने कहा कि मामला निबट गया था। दोपहर 3.15 बजे यह घटना हुई। इसके फोटो खींचे गये और दिल्ली भेज दिये गये। 3.30 पर दिल्ली के एक नेता का ट्वीट भी आ गया। धार्मिक स्थल से एनाउंसमेंट करा दिया गया। उन्होंने कहा कि इतने में एक नेता भी टपक पडे़। 15 मिनट में ऐसे सब कुछ कैसे हो गया। उन्होंने कहा कि पुलिस कप्तान पूरे प्रकरण की जांच करेंगे। यदि मैं दोषी पाया जाता हूं, तो मुझे फांसी पर चढ़ा देना, लेकिन अगर वे दोषी नहीं हैं, तो जो दोषी हैं, उनके खिलाफ भी कुछ करना होगा। उन्होंने कहा कि सोरम के युवा अपने हैं, उन्हें कुछ नहीं होगा। लेकिन जांच तो होगी, जांच को पब्लिक के सामने रखा जायेगा।

सीएए विरोधी प्रदर्शनों की चर्चा करते हुए उन्होंने पूछा कि देश के 543 सांसदों में से एक सांसद बता दो जो बंद का विरोध करते जला रही भीड़ के सामने खड़ा हुआ हो और मैं मंत्री होते हुए भी शिव चौक पहुंच गया महावीर चैक पहुंच गया। उन्होंने कहाकि कि जिले को दंगों की आग में झोंकने वाले और किसानों को आपस में लडाकर राजनीति करने वालों से सावधान रहने की जरूरत है।  इस मौके पर भावुक होकर उन्होंने कहा कि संजीव को कहीं नहीं जाने देंगे संजीव हमारा है हमारे बीच रहेगा। 

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा