अद्भुत :काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव ने 50 साल बाद छोड़ा अपना कलेवर

 काशी। काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव ने 50 साल बाद अपना कलेवर छोड़ दिया। भोर में बाबा ने जब अपना कलेवर छोड़ा तो उस समय मंगला आरती हो रही थी। इस पर नजर पड़ते ही परिसर जयकार, शंख ध्वनि और घंटा-घड़ियाल की टंकार से गूंज उठा। कलेवर को लाल वस्त्र में बांध कर पंचगंगा घाट ले जाया गया। श्रद्धालु नाव में सवार होकर मध्यधार में पहुंचे और कलेवर को विसर्जित किया। मान्यता है कि बाबा कलेवर तभी छोड़ते हैं जब कोई बड़ी आपदा आने वाली होती है। कलेवर छोड़ने का मतलब होता है कि आपदा को उन्होंने खुद झेल लिया है। 14 साल पहले भी एक बार बाबा ने विग्रह से एक परत का छूटा था।



मोक्ष नगरी काशी में परंपराओं और मान्‍यतओं का भी अनोखा संसार विद्यमान है। मंगलवार की सुबह काशी के रक्षक माने जाने वाले बाबा कालभैरव की मंगला आरती पूजा के दौरान उनके शरीर से चौदह साल के लंबे अंतराल के बाद कलेवर का एक हिस्‍सा अलग हुआ तो मानो तीनों लोकों से न्‍यारी नगरी और भगवान शिव के त्रिशूल पर टिकी काशी को एक और जन्‍म मिल गया। हलाहल पीकर दुनिया की रक्षा करने वाले भगवाल शिव के प्रतीक बाबा काल भैरव के शरीर से कलेवर का अलग होना माना जाता है कि इससे धरती पर किसी बड़ी आपदा को बाबा ने अपने ऊपर झेल लिया है। 

विज्ञापन 


काशी में बाबा काल भैरव के कलेवर की मान्‍यता

काशी में बाबा को चमेली का तेल और सिंदूर का लेप लगाने की परंपरा रही है। नित्‍य उनके शरीर पर लेपन की प्रक्रिया के बाद एक समय आता है जब इसकी परत अपने आप निकल जाती है। आज से लगभग 14 बरस पूर्व बाबा कालभैरव के शरीर से कलेवर की परत ने शरीर का साथ छोड़ा था। इसके बाद लंबे अंतराल के बाद मंगलवार को काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव के शरीर से कलेवर अलग हुआ तो पूजन के समय पूरा परिसर हर हर महादेव के घोष से गुंजायमान हो गया।

गंगा में कलेवर विसर्जित

मोम सिंदूर और देसी घी का लेप बाबा को चढ़ाया जाता है। इसके बाद पूजन की प्रक्रिया शुरू होती है। काशी के कोतवाल बाबा कालभैरव के शरीर से अलग हुए बाबा के कलेवर को लाल कपड़े में लपेटकर हर-हर महादेव के उद्घोष के साथ धूम धाम से गंगा में विसर्जित किया गया। इसके बाद दोपहर में लेप लगाने के बाद दोबारा मंदिर भक्‍तों के लिए खोल दिया गया।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा