किसानों का नहीं रहा आंदोलन, इसमें अराजक तत्व घुसे: संजीव बालियान


मुजफ्फरनगर । सांसद व केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने 26 जनवरी को दिल्ली में हुए ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा पर विपक्षी दलों को आड़े हाथों लेते हुए किसान नेताओं पर भी जमकर भड़ास निकाली। आज रामपुर तिराहा पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि अब यह आंदोलन किसानों का नहीं रहा है। इसमें अराजक तत्व घुस गए हैं। किसान नेताओं को भी समझना चाहिए कि अब आंदोलन उनके हाथ में नहीं रहा। उन्होंने विपक्ष के खिलाफ बोलते हुए कहा कि ऐसे लोग किसानों को भड़काने का काम कर रहे हैं, जिन्हें जनता ने चुनाव में पूरी तरह से नकार दिया है और आज किसानों को सरकार के खिलाफ भड़का रहे हैं। लोकतंत्र में ऐसा नहीं चलता। वह मैदान में आए चुनाव लड़े सांसद और विधायक बने। अपना खुद कानून बनाए। सरकार किसानों के साथ खड़ी है और जो किसान का हित होगा सरकार उसी पर काम करेगी। उन्होंने दिल्ली आंदोलन में शामिल किसानों से भी अपील की है कि अब बहुत हो चुका है अब वह वापस आ जाए, क्योंकि अब यह आंदोलन किसानों का नहीं रहा। उन्होंने मुजफ्फरनगर के किसानों से भी अपील की है कि अब वह भी अपने घर वापस आ जाए। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर की धरती पर बड़े से बड़े आंदोलन हुए हैं। चौधरी चरण सिंह से लेकर किसान मसीहा चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत तक किसान नेताओं ने बहुत बड़े बड़े आंदोलन की है, मगर कभी किसान आंदोलनों पर उंगली नहीं उठी। जो अराजकता दिल्ली में हुई है उसमें कार्यवाही होगी और होनी भी चाहिए जो लोग उसमें शामिल है उन्हें सजा जरूर मिलेगी। लाल किले पर झंडा फहराने वाले दीप सिद्धू के बारे में जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि 2 माह पहले सांसद सनी देओल मना कर चुके थे कि दीप सिद्धू से उनका कोई संबंध नहीं है केवल चुनाव के दौरान प्रचार में साथ रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों के हित में है जो भी कानून बनाएगी, वह किसानों के हित में होंगे। भाकियू नेता चौधरी राकेश टिकैत के बक्कल उतारने वाले बयान पर मंत्री संजीव बालियान ने कहा कि ऐसे बयान को मीडिया में सनसनी के लिए दिए जाते है।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा