सोमवार, 9 नवंबर 2020

आन लाइन कलश सज्जा में दिखी प्रतिभा


मुजफ्फरनगर । एसडी कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज में हुआ बैस्ट आउट ऑफ दि वैस्ट से थाली व कलश सज्जा प्रतियोगिता का आयोजन | एसडी कॉलेज ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, मुजफ्फरनगर के बी0बी0ए0/बी०सी०ए० विभाग में संयुक्त रूप से एक आनलाईन कलश सज्जा तथा पूजा थाली की सजावट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता का शुभारम्भ प्राचार्य डा० संदीप मित्तल जी ने आनलाईन किया। इस प्रतियोगिता में बी0बी0ए0/बी०सी०ए० व बी०एस०सी० (सी0एस0) के अधिकतर छात्र/छात्राओं ने ऑनलाइन प्रतिभाग किया। इस प्रतियोगिता में सभी छात्र/छात्राओं को अपनी कल्पना के अनुसार कलश व पूजा की थाली की सजावट करने की छूट दी गयी थी। जिसमें छात्र/छात्राओं ने अपनी-अपनी प्रतिभा के अनुसार अत्यन्त सुन्दर कार्य किया। कार्यक्रम की संयोजक डा० संगीता गुप्ता व श्रीमति चन्दना दीक्षित ने अपने विचार प्रस्तुत करते हुए कहा कि कलश सुख-समृद्धि व ऐश्वर्य का प्रतीक व मंगल कामना की प्रतीक माना गया है, मान्यता है कि कलश में सभी ग्रह, नक्षत्रों एवं तीर्थो का निवास होता है, इसके अलावा ब्रह्म, विष्णु, रुद्र, सभी नदिया, सागर, सरोवर एवं तैतीस कोटि देवी-देवता विराजते है तथा इसी के साथ पूजी की थाली में रोली-चावल, दीपक, फल-फूल मिठाई आदि सहित अपने श्रद्धा के भावो को अपर्ण करने के लिये किया जाता है। प्रतियोगिता के निर्यायक मण्डल में बी0बी0ए0/बी०सी०ए० विभाग के प्रवक्ता दीपक गर्ग व श्वेता टॉक रहें। निर्यायक मण्डल ने छात्र/छात्राओं का प्रस्तुतीकरण कलश य थाली की आकर्षक सजावट व स्वच्छता के आधार पर विजेता छात्र/छात्राओं का निर्णय दिया। जिसमें प्रथम पुरस्कार इशिका (बी0बी0ए0-3 सेमेस्टर), द्वितीय वर्निका जैन (बी०सी०ए०-5 सेमेस्टर) एवं शैली त्यागी (बी०सी०ए०-5 सेमेस्टर) व इसके अलावा छात्र/छात्राओं को सान्तवना पुरस्कार भी दिये गये। प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने वाले सभी छात्र/छात्राओं को प्रशंसनीय पत्र दिये गये। कार्यक्रम के समापन पर प्राचार्य डा संदीप मित्तल ने सभी प्रतिभागियों का धन्यवाद देते हुए बताया कि त्यौहारों के समय इस प्रकार कि प्रतियोगिता कराने से छात्र/छात्राओं को कुछ अच्छा सीखने को मिलता है तथा इस तरह के प्रयास से भविष्य में उनकी कल्पनाशक्ति को भी बढ़ाता है। बी०बी०ए० विभागाध्यक्ष डा0 राजीव पाल सिंह ने कहा कि पढ़ाई के साथ-साथ रचनात्मक विषयों पर काम करने से छात्र/छात्राओं की मानसिक स्थिति को स्वस्थ रखता है व उनको तनाव मुक्त बनाता है। बी०सी०ए० विभागाध्यक्ष डा0 संजीव तायल ने बताया कि कॉलेज में इस तरह की प्रतियोगितायें आयोजित होने से छात्र/छात्राओं में रचनात्मकता बनी रहती है और वो अपनी संस्कृति को बेहतर रूप से अपनाते है व उससे जुड़े रहते है। डा0 आलोक कुमार गुप्ता ने बताया कि इस अवसर पर वी0बी0ए0/बी०सी०ए० विभाग के दीपक गर्ग, अक्षय जैन, अन्जर, प्राची, पूर्वी जैन, सोनिका रोबिन गर्ग, वैभव वत्स, प्रतीक गर्ग, नवनीत चौहान, मोहित गोयल, श्वेता, राहुल शर्मा, रोबिन मलिक, शंशाक, प्रशान्त गुप्ता, विनिता चौधरी, सतीश एवं उमेश मलिक आदि शिक्षकगण व स्टॉफ उपस्थिति रहें।


कोई टिप्पणी नहीं:

Featured Post

*'जो रह गए, उन्हें भविष्य में मिलेगा सभी योजनाओं का लाभ':मीनाक्षी स्वरूप*

  मुज़फ्फरनगर। वार्ड 41 आदर्श कॉलोनी में आयोजित विकसित भारत संकल्प यात्रा में नगर पालिका अध्यक्षा मीनाक्षी स्वरूप ने बताया कि गांव के गरीब से...