DUNIYA लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
DUNIYA लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 30 सितंबर 2020

लीबिया से लौट रहे सात भारतीयों का अपहरण

नई दिल्ली। लीबिया में काम कर रहे 7 भारतीयों को भारत लौटते समय अगवा कर लिया गया। 


परिजनों ने केन्द्र सरकार से मामले में तत्काल हस्तक्षेप कर अगवा किए गए लोगों की रिहाई को परिजनों ने प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और विदेश मंत्री से मदद की गुहार लगाई है। पीड़ित परिजनों द्वारा सेंट्रल दिल्ली के प्रसाद नगर थाने में, जिले के डीसीपी को और पुलिस कमिश्नर को भी चिट़ठी लिखकर मदद मांगी गई है। अगवा किए गए सात भारतीयों में महेन्द्र सिंह, वेंक्टराव बतचाला, साह अजय, उमेदीब्राहिम भाई मुल्तानी, दनय्या बोद्धू, मुन्ना चौहान और जोगाराव बतचाला शामिल हैं। ये सभी लोग राजेन्द्र प्लेस स्थित एनडी एन्टरप्राइजेज कम्पनी की ओर से लीबिया में आयरन वेल्डर के तौर पर काम करने के लिए करीब एक साल पहले गए थे।


मंगलवार, 29 सितंबर 2020

कोरोना से मुक्ति मिली नहीं एक और चीनी वायरस का खतरा मंडराया

नई दिल्ली। चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस के प्रकोप से अभी भारत समेत दुनियाभर के देश उफर भी नहीं पाएं हैं कि एक और चीनी वायरस पूरे विश्व पर खतरा बनकर मंडराने लगा है।


वैज्ञानिकों ने एक और चीनी वायरस की खोज की है, जिससे देश में बीमारी फैलने की संभावना जताई जा रही है। इस वायरस का नाम कैट क्यू वायरस (CQV)है।हभारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने भारत सरकार को चेतावनी दी है कि चीन का कैट क्यू वायरस (Cat Que Virus यानी CQV) भारत में दस्तक दे सकता है।  ये वायरस आर्थ्रोपोड-जनित वायरस की श्रेणी में आता है। ये क्यूलेक्स नामक मच्छरों के अलावा सूअर में भी पाया जाता है। खबरों की मानें तो चीन और वियतनाम में बड़े पैमाने पर लोग इस CQV वायरस से ग्रसित पाए गए हैं।


सोमवार, 28 सितंबर 2020

शुरू हुई जंग चार हेलीकॉप्टर मार गिराये, 23 मरे सैंकड़ों घायल


नई दिल्ली। आर्मीनिया और अजरबैजान के बीच रविवार को अलगाववादी नागोरनो-करबाख इलाके को लेकर लड़ाई शुरू हो गई। जंग में दोनों तरफ से 23 लोगों की मौत हो गई, जबकि सौ से अधिक लोग घायल हो गए। आर्मिनिया ने दावा किया कि अजरबैजान के बलों की गोलाबारी में एक महिला और एक बच्चे की मौत हुई है। वहीं, अजरबैजान के राष्ट्रपति ने कहा कि उनकी सेना को नुकसान हुआ है।


आर्मीनिया ने अजरबैजान के चार हेलीकॉप्टरों  को मार गिराने और तीन टैंकों को तोप से निशाना बनाने का भी दावा किया है, लेकिन अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने इन दावों का खंडन किया है। दोनों देशों के बीच नागोरनो-करबाख पर कब्जे को लेकर विवाद है। हालांकि इस बार लड़ाई क्यों शुरू हुई है यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है। जुलाई में दोनों पक्षों के बीच संघर्ष के बाद यह सबसे बड़ी लड़ाई है। जुलाई में दोनों पक्षों के कुल 23 लोगों की मौत हुई थी।


नगोरनो-करबाख के अधिकारियों ने बताया कि अजरबैजान से की ओर से दागे गए गोले राजधानी स्टेपनाकेर्ट और मार्टकेर्ट एवं मार्टुनी कस्बों में गिरे। आर्मीनियाई रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता आर्टसरन होवहानिसियन ने कहा कि अजरबैजान की ओर से दागे गोले आर्मीनिया की सीमा में वर्डनिस कस्बे के पास गिरे। आर्मीनिया के मानाधिकार लोकपाल अरमान टटोयान ने कहा कि हमले में एक महिला और एक बच्चे की मौत हुई है, जबकि मार्टुनी क्षेत्र में दो नागरिक घायल हुए हैं।


शुक्रवार, 25 सितंबर 2020

चीन में ढहा दी गई 16 हजार मस्जिदें

पेइचिंग। चीन का असली चेहरा एक बार फिर सामने आया है। एक ऑस्ट्रेलियन थिंक टैंक ने शुक्रवार को जारी रिपोर्ट में बताया है कि चीनी सरकार ने शिनजियांग प्रांत में 16 हजार से ज्यादा मस्जिदों को जमींदोज कर दिया है। इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि इस इलाके में किस तरह मानवाधिकारों को कुचला जा रहा है। 


थिंक टैंक ने कहा है कि उत्तरी-पश्चिमी प्रांत में 10 लाख से अधिक उइगर और दूसरे मुसलमानों को कैंप में कैद करके रखा गया है। शिनजियांग प्रांत में लोगों पर परंपरागत और धार्मिक गतिविधियों को छोड़ने का दबाव बनाया जा रहा है। 


ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटिजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट (ASPI) के मुताबिक, करीब 16 हजार मस्जिदों को ढहा दिया गया है या नुकसान पहुंचाया गया है। यह रिपोर्ट सैटेलाइट इमेज और स्टैटिकल मॉडलिंग पर आधारित है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकतर मस्जिदों को पिछले तीन साल में बर्बाद किया गया है। एक अनुमान के मुताबिक, 8,500 मस्जिदों को पूरी तरह ढहा दिया गया है। अधिकतर नुकसान उरुमकी और काशगर के बाहरी इलाकों में पहुंचाया गया है। 


कई मस्जिद जिन्हें पूरी तरह नहीं ढहाया गया है, उनके गुंबदों और मीनारों को गिरा दिया गया। शिनजियांग में क्षतिग्रस्त सहित करीब 15,500 मस्जिद बच गए हैं। यदि सही है, तो 1960 के दशक में सांस्कृतिक क्रांति से उठी राष्ट्रीय उथल-पुथल के दशक के बाद से इस क्षेत्र में मुस्लिमों के इबादतघरों की यह न्यूनतम संख्या है। इसके विपरीत थिंक टैंक ने जिन भी गिरिजाघरों और बौद्ध मंदिरों को अध्ययन में शामिल किया, उनमें से किसी को नहीं नुकसान पहुंचाया गया है। 


बुधवार, 16 सितंबर 2020

तेज भूकम्प से हिला नेपाल

काठमांडू। भूकंप के तीव्र झटकों से नेपाल हिल गया । बुधवार की सुबह नेपाल में रिक्टर स्केल पर तीव्रता 6.0 का भूकंप आया । भूकंप का केंद्र काठमांडू के पूरब में सिंधुपालचौक जिले के रामचे इलाके में था। 


नेशनल सेंटर फॉर सिस्मोलॉजी के मुताबिक, आज सुबह 5.19 मिनट पर यह भूकंप आया। फिलहाल भूकंप से किसी भी तरह के नुकसान की कोई सूचना नहीं मिली है। भूकंप के झटके बाद लोग सहम गए और अपने घरों से बाहर निकल आए। 


इस भूंकप के झटकों ने लोगों को 2015 भूकंप की याद दिला दी। 2015 में भूकंप से बड़ी तबाही हुई थी और करीब 10 हजार लोगों की मौत हुई थी


मंगलवार, 8 सितंबर 2020

चीन सीमा पर फायरिंग के बाद तनाव


नई दिल्ली। सीमा पर तनाव के बीच फायरिंग की खबर है। चीन ने दावा किया है कि भारतीय सेना ने फायरिंग की है। अगर चीन का दावा सच है तो 1975 के बाद पहली बार दोनों देशों की सेना के बीच एलएसी पर फायरिंग हुई है। 15 जून की रात को गलवान घाटी में हुई खूनी झड़प के बावजूद भी दोनों सैनिकों की ओर से फायरिंग नहीं हुई थी। भारत लगातार जोर देकर कहता रहा है कि उसकी सेना ने एलएसी का उल्लंघन नहीं किया है


गुरुवार, 3 सितंबर 2020

यू एन ओ में पाक को फिर मिली हार


न्यूयार्क l पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बुधवार को एक बार फिर मुंह की खानी पड़ी। 


संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने बुधवार को 1267 अल कायदा प्रतिबंध समिति के तहत चार भारतीय नागरिकों को आंतकवादी के रूप में नामित करने के इस्लामाबाद के प्रयासों को संयुक्त राष्ट्र ने खारिज कर दिया।पाकिस्तान ने चार भारतीय नागरिकों को अफगानिस्तान में हिंसा का जिम्मेदार बताते हुए प्रतिबंध समिति के तहत प्रतिबंधित सूची में शामिल करने के लिए नामित किया थाl इसमें अंगारा अप्पाजी, गोबिंद पटनायक, अजय मिस्री और वेणुमाधव डोंगारा के नाम शामिल थे।


सोमवार, 31 अगस्त 2020

मानसरोवर पर मिसाइल तैनात कर रहा चीन

नयी दिल्ली। लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल व पर भारत के साथ तनाव के बीच चीन मानसरोवर के पास एक झील के किनारे जमीन से हवा में मार करने वाले मिसाइलों को तैनात कर रहा है। 


विशेषज्ञों के अनुसार मिसाइल की तैनाती चीन की ओर से जारी आक्रामक उकसावे का हिस्सा है, जिससे दोनों देशों के बीच सीमा विवाद और जटिल हो सकता है। इपोक टाइम्स ने एक रिपोर्ट में यह बात कही है। 


कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील, जिसे आमतौर पर कैलाश-मानसरोवर स्थल के रूप में जाना जाता है, चार धर्मों द्वारा पूजनीय है और भारत में सांस्कृति और आध्यात्मिक शास्त्रों से जुड़ा हुआ है। 


रविवार, 30 अगस्त 2020

अमेरिकी कोरोना वैक्सीन के खिलाफ फतवा

वाशिंग्टन। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की ओर से विकसित किए जा रहे कोरोना वैक्सीन को लेकर कई धार्मिक नेता इसके विरोध में आ गए हैं। ऑस्ट्रेलिया के एक इमाम ने इस वैक्सीन को हराम बताते हुए मुसलमानों से इसे ना लगवाने की अपील की है। सुफयान खलीफा ने हाल ही में एक वीडियो के जरिए अपने फॉलोअर्स से यह अपील की है।


कुछ और धार्मिक नेताओं ने भी हाल ही में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैक्सीन कैंडिडेट की नीतिगत चिंताएं जाहिर की हैं, जिसे 1970 में हुए गर्भपात के भ्रूण सेल्स का इस्तेमाल करते हुए बनाया गया है। ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने सफल ट्रायल के बाद ऑक्सफोर्ड वैक्सीन लोगों को उपलब्ध कराने के लिए मैन्युफैक्चरर एस्ट्राजेनिका के साथ करार किया है। 


सिडनी कैथोलिक आर्कपिशप, सिडनी एंजलिकन आर्कबिशप और ग्रीक ऑर्थोडोक्स आर्कबिशप ने प्रधानमंत्री को लेटर लिखकर डील पर दोबारा विचार करने की मांग की है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी वैक्सीन में जिस तकनीक का इस्तेमाल किया गया है वह भ्रूण सेल्स के जरिए विकसित किया जाता है, जिसे दवा की पैकेजिंग से पहले निकाल दिया दिया जाता है।  


सेल्स को 1973 में नीदरलैंड्स में हुए एक वैध गर्भपात से लिया गया गया, जिसके बाद बदलाव किया गया ताकि लैब में सेल्स लगातार डिवाइड होते रहें, इसलिए नई कोशिकाओं के स्रोत की कोई आवश्यकता नहीं है। कुछ धार्मिक नेताओं का दावा है कि यह तकनीक अनैतिक है और उन्होंने पीएम से विकल्पों पर विचार करने को कहा है। हालांकि, कुछ अन्य धार्मिक नेताओं ने कहा है कि मानव जीवन की रक्षा आवश्यक है और इस वैक्सीन के इस्तेमाल में कोई बुराई नहीं है।


शनिवार, 29 अगस्त 2020

सर्दी में और घातक और मारक हो सकता है कोरोना

लंदन। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यू एच ओ) ने फिर चेतावनी दी है कि आने वाली सर्दियों में यूरोप समेत दुनिया के कई हिस्सों में कोरोना का कहर बढ़ेगा। संगठन ने कहा कि इस दौरान अस्पतालों में भर्ती होने वाले लोगों की संख्या बढ़ेगी और मृत्यु दर में भी इजाफा होगा। यूरोप में डब्ल्यूएचओ के रीजनल डाइरेक्टर हेनरी क्लग ने कहा, 'सर्दियों में युवा लोग बुजुर्ग आबादी के ज्यादा करीब होंगे हम गैरजरूरी भविष्यवाणी नहीं करना चाहते, लेकिन इसकी निश्चित रूप से आशंका है। इस दौरान ज्यादा लोग अस्पतालों में भर्ती होंगे और मृत्युदर बढ़ जाएगी। 


हेनरी क्लग ने आने वाले महीनों में तीन मुख्य कारणों पर फोकस करने के लिए कहा है। स्कूलों के फिर से खुलने , सर्दी-जुकाम का मौसम और सर्दियों के दौरान बुजुर्गों की ज्यादा मौत की आशंका है।


बुधवार, 26 अगस्त 2020

किम जोंग की ये खूबसूरत बहन बनेगी नयी तानाशाह

नयी दिल्ली। मीडिया में उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग की मौत और उनके कोमा में होने की खबरों के बीच विशेषज्ञों का कहना है कि उसकी बहन किम यो जोंग अपने भाई की तरह ही सख्ती के साथ उत्तर कोरिया पर शासन कर सकती हैं। किम जोंग की बिगड़ती सेहत के बारे में रिपोर्ट्स सामने आने के बाद से वैश्विक विशेषज्ञ उत्तर कोरिया के भविष्य और दुनिया के लिए शासन बदलने के बारे में चर्चा कर रहे हैं। दक्षिण कोरियाई खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट में बताया गया है कि किम ने अपनी बहन को सत्ता सौंप दी है। इस खबर पर कई ने चिंता जाहिर की है।


अमेरिकी सेना के कर्नल डेविड मैक्सवेल ने न्यूयॉर्क पोस्ट को बताया, "परिवार की प्रतिष्ठा और इतिहास को देखते हुए, वह लोहे की मुट्ठी (सख्ती से) से शासन करगी।"


सोमवार, 24 अगस्त 2020

किम जोंग कोमा में हालत गंभीर

नई दिल्ली। उत्तर कोरिया के तानाशाही शासक किम जोंग-उन  कोमा में चले गए हैं और उनके द्वारा नियुक्त उत्तराधिकारी उनकी बहन किम यो-जोंग राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मामलों को संभालने की तैयारी कर रही हैं।


मीडिया रिपोर्टर्स के अनुसार दक्षिण कोरिया के पूर्व राष्ट्रपति किम डेई-जुंग के पूर्व सहयोगी चांग सोंग-मिन ने उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग के कोमा में जाने की बात को लेकर एक पोस्ट किया है। चांग सोंग-मिन के अनुसार, उत्तर कोरियाई शासक किम जोंग उन कोमा में हैं। यही नहीं इसी के चलते उनकी बहन किम यो-जोंग को अमेरिका और दक्षिण कोरिया के साथ संबंधों को संभालने की अधिकृत रूप से जिम्मेदारी दे दी गई है।


चांग सोंग-मिन, जिन्होंने किम दा-जंग के कार्यकाल में राजनीतिक मामलों के सचिव और राज्य मामलों के निगरानी कार्यालय के प्रमुख के रूप में जिम्मेदारी संभाली ने कथित तौर पर एक सोशल मीडिया पोस्ट में दावा किया कि कोई भी उत्तर कोरियाई नेता अपने किसी भी व्यक्ति को किसी अन्य व्यक्ति को अधिकार नहीं सौंपेगा, जब तक कि वह शासन करने के लिए बहुत बीमार या तख्तापलट के माध्यम से हटा जाता है।


नवाज शरीफ भगौडा घोषित

इस्लामाबाद। पाकिस्तान सरकार ने लंदन में इलाज करा रहे पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को 'भगोड़ा'  घोषित किया है और उनके प्रत्यर्पण के लिए इंग्लैंड की सरकार से संपर्क किया है। 


जवाबदेही और आंतरिक मामलों में प्रधानमंत्री के सलाहकार शहजाद अकबर ने कहा कि नवाज शरीफ की चिकित्सा आधार पर 4 हफ्ते की जमानत पिछले साल दिसंबर में समाप्त हो गई थी। 


डॉन न्यूज ने शनिवार को शहजाद अकबर के हवाले से बताया, 'सरकार उन्हें (शरीफ) भगोड़ा मान रही है और इंग्लैंड की सरकार को उन्हें प्रत्यर्पित करने के लिए पहले ही अनुरोध भेज चुकी है। 


70 वर्षीय और 3 बार प्रधानमंत्री रहे नवाज शरीफ जिन्हें एक जवाबदेही अदालत ने भ्रष्टाचार के मामले में सजा सुनाई थी, ने पिछले महीने लाहौर की एक अदालत को सूचित किया था कि वह फिलहाल देश लौटने में असमर्थ हैं क्योंकि उनके डॉक्टरों ने कोरोना महामारी को देखते हुए उन्हें बाहर जाने से मना किया है।


शनिवार, 22 अगस्त 2020

16 साल की लड़की से तीस वहशियों ने किया दुष्कर्म

नई दिल्ली। इजराइल में एलाट के रेड सी रिसॉर्ट में 30 लोगों ने 16 साल की एक लड़की के साथ कथित तौर पर बलात्कार की घटना को लेकर जनाक्रोश भड़क गया है ।


दर्दनाक घटना को लेकर मीडिया रिपोर्ट के बाद कई शहरों में प्रदर्शनकारी सड़क पर निकल गए। मीडिया रिपोर्ट बताया गया है कि घटना को अंजाम देने के लिए आरोपी नाबालिग के बेडरूम के बाहर कतार में खड़े थे। पुलिस ने कथित तौर पर घटना का वीडियो भेजने को लेकर दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है।


दुष्कर्म की शिकार नाबालिग ने कहा है कि घटना के बाद से उसे लोगों का बहुत सपोर्ट मिला जिसके बाद उसने पिछले सप्ताह इलियट में पुलिस को इस अपराध की सूचना दी थी, लेकिन यह मामला पहले ही काफी हद तक बेपर्दा हो चुका था। घटना के बारे में जैसे-जैसे लोगों को जानकारी मिलती गई लोग विरोध में सड़क पर उतरते गए। गुरुवार को तेल अवीव और येरुसलम के बड़े शहरों में विरोध शुरू हो गया।


पाकिस्तान ने कबूला भारत का मोस्ट वांटेड दाऊद इब्राहिम कराची में है

टीआर ब्यूरो l


नई दिल्ली l पाकिस्तान  दुनिया के सामने एक बार फिर से बेनकाब हो गया है. पाकिस्तान ने पहली बार कबूल किया है कि दाऊद इब्राहिम कराची में ही है. पाकिस्तान ने आतंकियों  की एक नई लिस्ट जारी की है, इसमें दाऊद इब्राहिम का नाम भी शामिल है. अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद वित्तपोषण पर निगरानी रखने वाली संस्था वित्तीय कार्रवाई कार्य बल की ‘ग्रे लिस्ट’ से बाहर आने के लिए पाकिस्तान ने शनिवार को 88 प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों और आतंकी हाफिज सईद, मसूद अजहर और दाऊद समेत उनके आकाओं पर कड़े वित्तीय प्रतिबंध लगाए हैं.


बुधवार, 19 अगस्त 2020

क्या दो टुकडों में बंट जाएगी धरती?

वाशिंग्टन। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक धरती का कवच लगातार कमजोर हो रहा है। यह कवच दक्षिण अमेरिका और दक्षिणी अटलांटिक समुद्र के बीच में कमजोर हो रहा है। खगोलविदों ने कवच में दरार बनने की इस प्रक्रिया  को दक्षिण अटलांटिक विसंगति का नाम दिया है।


खगोलविदों के मुताबिक, यह दरार हर सेकंड बढ़ती जा रही है और यह दो टुकड़ों में बंट सकती है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, यह दरार धरती के भीतर बन रही है, मगर इसका असर धरती की सतह पर हो रहा है। इसके चलते धरती के वातावरण में कमजोर चुंबकीय क्षेत्र बन रहा है जो सूरज से निकलने वाले घातक विकिरणों को धरती की सतह जाने से रोक पाने में सक्षम नहीं हो पा रहा है।


वैज्ञानिकों के मुताबिक, चुंबकीय क्षेत्र के चलते कवच में दरार तो बन ही रही है। धरती के उत्तरी हिस्से से यह कमजोर चुंबकीय क्षेत्र पूरे आर्कटिक की ओर फैल गया है। मई में यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने रिपोर्ट दी थी कि बीते 200 बरसों में चुंबकीय क्षेत्र ने औसतन अपनी 9 फीसदी क्षमता गंवा दी थी। 1970 से ही कवच में क्षति की प्रक्रिया में तेजी आई और यह 8 फीसदी कमजोर हुआ है। हालांकि, कवच के दो टुकड़ों में बंटने को साबित नहीं किया जा सकता है।


सैटेलाइट मिशनों के घर पर खतरा, प्रोटॉन कणों की बौछार से खराब होने की आशंका


वैज्ञानिकों के मुताबिक धरती के भीतर पैदा हो रही इस गड़बड़ी का असर धरती की सतह तक हो रहा है। खासकर धरती के नजदीकी वातावरण पर इसका गहरा कुप्रभाव पड़ेगा, जो सैटेलाइट मिशनों के लिए घर है। बताया जा रहा है कि अगर ऐसा हुआ तो दुनिया भर के सैटेलाइट मिशनों को एक और बड़ी चुनौती का सामना करना होगा।


सोमवार, 17 अगस्त 2020

पालतू कुत्तों को मारकर देश का पेट भरेंगे किम जोंग

प्योंगयांग। नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग इन दिनों देश में खाने की कमी का सामना कर रहे हैं। इस संकट से निपटने के लिए उन्होंने अनाज खरीदने या खेती को बढ़ावा देने की बजाय कुत्तों की जान लेने का फरमान जारी कर दिया है। किम के आदेश से कुत्तों को पालने वाले लोग बेहद डरे हुए हैं और इस बात को लेकर फिक्रमंद हैं अब जिन्हें वे प्यार से पाल रहे थे उन्हें अब मार डाला जाएगा।


दरअसल, किम जोंग उन ने इस साल जुलाई में घोषणा की थी देश में अब कुत्ता पालना अवैध है। उन्होंने घर में कुत्तों को पालने को पूंजीपति विचारधारा से जोड़ा था


रविवार, 16 अगस्त 2020

ट्रम्प के छोटे भाई का निधन

न्यूयार्क। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के छोटे भाई रॉबर्ट ट्रंप का शनिवार रात न्यूयॉर्क के एक अस्पताल में निधन हो गया है। 71 साल के रॉबर्ट को व्यवसायी के तौर पर जाना जाता था। उनके निधन को लेकर राष्ट्रपति ने एक बयान जारी किया है। गंभीर रूप से बीमार होने की वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। ट्रंप भाई-बहनों में सबसे कम उम्र के रॉबर्ट 74 वर्षीय राष्ट्रपति के करीबी रहे।


मंगलवार, 11 अगस्त 2020

रूस ने बनाया कोरोना का टीका

नयी दिल्ली। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने दावा किया है कि रूस कोरोना की वैक्सीन विकसित करने वाला पहला देश बन गया है। पहला टीका उनकी पुत्री को लगाया गया है। 


पुतिन ने  सरकारी मंत्रियों के साथ एक टीवी वीडियो कॉन्फ्रेंस कॉल के दौरान कहा कि आज सुबह दुनिया में पहली बार कोरोना वायरस के खिलाफ एक टीका पंजीकृत किया गया है। कोरोना वायरस संकट के बीच पूरी दुनिया में वैक्सीन बनाने की कवायद जारी है, इस बीच रूस ने इसके तैयार होने कर दिया है। पहले से रूस का दावा है कि कोरोना वैक्सीन तैयार करने में वह दुनियाभर के देशों से आगे हैं। रूस के उप स्वास्थ्य मंत्री ओलेग ग्रिडनेव ने ऐलान किया था कि आज मंगलवार यानी 12 अगस्त को करोना वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन होगा। पुतिन ने दावा किया कि ये टीका आवश्यक परीक्षणों से गुजरा है। उन्होंने कहा कि उनकी दो बेटियों में से एक को वैक्सीन का एक शॉट मिला है और वह अच्छा महसूस कर रही है। रूसी अधिकारियों ने कहा है कि चिकित्सा कर्मचारी, शिक्षक और अन्य जोखिम समूह को सबसे पहले टीका लगाए जाएंगे।


रविवार, 9 अगस्त 2020

मुकेश अंबानी बने दुनिया के चौथे अमीर

नई दिल्ली. रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी अब दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति बन गए है. इस साल मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति में करीब 22 अरब डॉलर का इजाफा हुआ है. ब्लूमबर्ग बिलियनेयर इंडेक्स की अनुसार, मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति अब 80.6 अरब डॉलर पर पहुंच गई है. हालांकि, इस बीच फ्रांस के बर्नार्ड अर्नाल्ट की संपत्ति में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है. ब्लूमबर्ग ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि अर्नाल्ट की संपत्ति में इस साल ​गिरावट का सबसे बड़ा कारण ग्राहकों द्वारा कम खर्च रहा है.


पिछले महीने ही मुकेश अंबानी ने कई दिग्ग्ज अरबपतियों को संपत्ति के मामले में पीछे छोड़ दिया था. इसमें टेस्ला और स्पेसएक्स के संस्थापक इलॉन मस्क और अल्फाबेट इंक के सह-संस्थापक सर्जी ब्रिन और लैरी पेज शामिल हैं. इसके अलावा मुकेश अंबानी ने संपत्ति के मामले में दिग्गज निवेश वॉरने बुफेट को भी पीछे छोड़ दिया है.


Featured Post

*'जो रह गए, उन्हें भविष्य में मिलेगा सभी योजनाओं का लाभ':मीनाक्षी स्वरूप*

  मुज़फ्फरनगर। वार्ड 41 आदर्श कॉलोनी में आयोजित विकसित भारत संकल्प यात्रा में नगर पालिका अध्यक्षा मीनाक्षी स्वरूप ने बताया कि गांव के गरीब से...