Thursday, November 24, 2022

दंडी आश्रम से दस लाख की रंगदारी मांगने वाला शातिर दबोचा


मुजफ्फरनगर । थाना भोपा पुलिस व एसओजी की संयुक्त टीम के साथ हुई पुलिस मुठभेड़ के दौरान दंडी आश्रम से दस लाख की रंगदारी मांगने वाला वांछित बदमाश घायल होने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। उसके कब्जे से 01 मोटरसाईकिल, 01 तमंचा मय 03 जिन्दा व 02 खोखा कारतूस .315 बोर बरामद किए हैं। 

 जनपद में वांछित अभियुक्तगण की गिरफ्तारी हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल के निर्देशन में चलाए जा रहे अभियान के अन्तर्गत तथा पुलिस अधीक्षक देहात के निकट पर्यवेक्षण एवं क्षेत्राधिकारी भोपा व थाना प्रभारी भोपा के कुशल नेतृत्व में 23 नवंबर को थाना भोपा पुलिस व एसओजी की संयुक्त टीम की बदमाश से हुई मुठभेड़ में पुलिस द्वारा 01 वांच्छित अभियुक्त को सच्चा डेरा आश्रम शुक्रताल के पास से गिरफ्तार किया गया। अभियुक्त के कब्जे से 01 मोटरसाईकिल अपाचे, 01 तमंचा मय 03 जिन्दा व 02 खोखा कारतूस .315 बोर बरामद किया गया है। गिरफ्तारी एवं बरामदगी के सम्बन्ध में थाना भोपा पुलिस द्वारा आावश्यक वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।

 19.11.2022 को वादी मनोहरलाल शर्मा कोषाध्यक्ष दण्डी आश्रम निवासी दण्डी आश्रम समीति शुक्रताल, मुजफ्फरनगर द्वारा थाना भोपा को तहरीर देकर अवगत कराया कि विवेक चौधरी पुत्र वेदपाल सिंह निवासी कस्तला थाना इन्चोली जनपद मेरठ द्वारा दण्डी आश्रम शुक्रताल मे. 01 स्पीड पोस्ट भेजकर वादी व वादी के पुत्र से 10 लाख रुपये रंगदारी की मांग की गयी है। जिसके सम्बन्ध में थाना भोपा पुलिस द्वारा सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत करते हुए अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु टीम गठित की गई थी।


*पूछताछ का विवरणः-* प्रारंभिक पूछताछ के दौरान अभियुक्त द्वारा बताया गया कि दण्डी आश्रम शुक्रताल के कोषाध्यक्ष द्वारा मेरी बेइज्जती करायी गयी थी जिसका बदला लेने के लिए मैने दिनांक 14.11.2022 को दण्डी आश्रम समीति शुक्रताल, मुजफ्फरनगर मे 01 पत्र स्पीड पोस्ट से भेजकर रंगदारी की डिमान्ड की थी और आज इसी फिराक में शुक्रताल आया था। अभियुक्त के अन्य आपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है।

घायल/गिरफ्तार अभियुक्त का नाम/पता विवेक चौधरी उर्फ विक्की पुत्र वेदपाल सिह निवासी कस्तला थाना इन्चौली जनपद मेरठ है। 

बरामदगीः-

➡️ 01 तमंचा मय 03 जिन्दा व 02 खोखा कारतूस .315 बोर।

➡️ 01 मोटरसाईकिल अपाचे यूपी 15 बीएक्स 2868।

No comments: