Tuesday, September 27, 2022

मुजफ्फरनगर में बैंक क्लर्क ने दी बनियों को फाड़कर खाने की धमकी, विधायक पंकज मलिक ने किया पटाक्षेप


 मुजफ्फरनगर। अभी नोएडा का श्रीकांत त्यागी वाला मामला ठंडा भी नहीं पड़ा था कि मुजफ्फरनगर में भी कुछ इसी तरीके से बनिया समाज को टारगेट करते हुए विवादित टिका-टिप्पणी की गई। मामला बदतमीजी से शुरू होकर गाली-गलौज और फिर हाथापाई तक पहुंच गया। हैरत इस बात की है कि पुलिस की मौजूदगी में एक बैंक क्लर्क ने बनिया समाज से ताल्लुक रखने वाले ग्राहक को सरेआम कहा कि 'जाट हूं, दो मिनट में बनियों को फाड़कर खा जाऊंगा।'

दरअसल, ये पूरा मामला शहर कोतवाली इलाके की प्रेमपुरी स्थित यूनियन बैंक ऑफ इंडिया शाखा का है। मंगलवार दोपहर किशोर कुमार गोयल का भतीजा किसी कार्य से बैंक शाखा पहुंचा था। जहां एक नीरज राणा नामक क्लर्क ने पहले बदसलूकी की और जब विरोध किया तो आरोपी क्लर्क मारपीट पर आमादा हो गया और उसने गिरेबान पर हाथ डालते हुए उसे बैंक से बाहर निकलवा दिया। क्लर्क के इशारे पर गार्ड ने भी जमकर दबंगई दिखाई। मामले की जानकारी पर बैंक पहुंचे परिजनों के सामने पर भी क्लर्क ने जमकर बदतमीजी की। जिस पर पीड़ितों ने फोन करके मौके पर पुलिस को बुला लिया। हद तो तब हो गई जब बैंक क्लर्क पुलिस के सामने भी आपे से बाहर होते हुए ग्राहक और उसके परिजनों को गंदी-गंदी गालियां भांजते हुए धमकियां देने लगा। उसे पुलिस के सामने खुलेआम कहा कि 'वो जाट है और दो मिनट में बनियों को फाड़कर खा जाएगा।' हालांकि पुलिस ने पीड़ित पक्ष को समझा-बुझाकर कोतवाली चलने को कहा।पत

बैंक क्लर्क का दुस्साहस यहीं पर ही खत्म नहीं हुआ। मामले की जानकारी पर बैंक पहुंचने वाले मीडिया कर्मियों के साथ भी आरोपी क्लर्क ने जमकर बदतमीजी की। उसे समझाने की कोशिश भी की गई, मगर वो किसी की सुनने को तैयार नहीं था। यहां तक कि एक न्यूज चैनल के संपादक को जमकर मां-बहन की गाली तक दे डाली।

बैंक शाखा से पीड़ित, पत्रकार और पुलिस नगर कोतवाली पहुंची और कार्रवाई की मांग करते हुए लिखित में शिकायत दर्ज कराने लगे। इसी बीच पीड़ित पक्ष पर सपा रालोद गठबंधन के चरथावल विधायक पंकज मलिक द्वारा समझौते का प्रस्ताव आ गया। इससे पहले बनिया समाज को टारगेट करने वाले बैंक क्लर्क के खिलाफ कोई कार्रवाई हो पाती, उससे पहले ही पीड़ित पक्ष को विधायक के भाई निशांत मलिक द्वारा समझौते के लिए बुला लिया गया।

पूरे बनिया समाज को ठेंगे पर रखने और गाली-गलौज करने वाले क्लर्क नीरज राणा की गलती पर बैंक मैनेजर रविंद्र कुमार ने माफी मांगकर जख्मों पर मरहम लगाने की कोशिश की। विधायक पंकज मलिक और उनके छोटे भाई निशांत मलिक के प्रयास से पीड़ित पक्ष को फिर से बैंक बुलाया गया, जहां पर बैंक मैनेजर ने पूरे प्रकरण पर खेद व्यक्त करते हुए हाथ जोड़कर माफी मांगी।

No comments: