Thursday, October 7, 2021

लखीमपुर जाते नवजोत सिद्धू गिरफ्तार


 सहारनपुर। लखीमपुर खीरी में हिंसा पीड़ितों से मिलने जा रहे पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को पुलिस ने उत्तर प्रदेश में प्रवेश करते ही सरसावा में रोक लिया। इस पर कार्यकर्ताओं ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की करते हुए बैरिकेडिंग तोड़ दी और आगे बढ़ने का प्रयास किया। मामला ज्यादा लंबा खींचने पर पुलिस ने सिद्धू को हिरासत में ले लिया। पुलिस धड़ाधड़ कार्यकर्ताओं को जबरिया बस में बिठाने लगी। बाद में तीन विधायक व दो मंत्रियों के खीरी जाने पर सहमति बनी है। सिद्धू ने अपनी गिरफ्तारी दे दी है। एडीजी राजीव सभरवाल, डीएम अखिलेश सिंह और एसएसपी डॉ एस चनप्पा बॉर्डर पर मौजूद है।

बृहस्पतिवार को लखीमपुर खीरी जा रहे पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू का काफिला जैसे ही यूपी बॉर्डर पर पहुंचा तो जनपद सहारनपुर के सरसावा में कांग्रेस नेता के काफिले को रोक दिया गया। नवजोत सिंह सिद्धू को लखीमपुर खीरी जाने से रोके जाने से नाराज हुए कांग्रेसियों ने उत्तर प्रदेश पुलिस का पहला बैरीकेडस तोड़ दिया। इसके बाद पुलिस और प्रशासन पूरी तरह से फॉर्म में आ गया और सिद्धू को उत्तर प्रदेश में घुसते ही आउट करते हुए हिरासत में ले लिया। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ आए मंत्री अमरिंदर सिंह राजा, विजेंद्र सिंगला और गुरकीरत कोटली समेत 4 विधायकों को पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया है। सहारनपुर में पंजाब कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के लिए पुलिस और प्रशासन द्वारा बॉर्डर पर ही बस लगा दी गई है। पुलिस के साथ धक्का-मुक्की के बाद पंजाब कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पुलिस ने गिरफ्तारी शुरू कर दी है। पुलिस ने नवजोत सिंह सिद्धू और उनके साथियों को बस के भीतर बैठाना शुरू कर दिया। फिलहाल नवजोत सिंह सिद्धू को शाहजहांपुर पुलिस चौकी में ले जाकर बैठाया गया है। इस दौरान एडीजी राजीव सब्बरवाल के साथ नवजोत सिंह सिद्दू और कांग्रेस नेताओं की बातचीत चल रही है। कांग्रेस कार्यकर्ता लगातार नारेबाजी करते हुए लखीमपुर खीरी जाने की इजाजत देने की मांग कर रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू की एडीजी के साथ वार्ता चल रही है और कांग्रेस कार्यकर्ता लखीमपुर खीरी जाने के लिए जिद पर अड़े हुए हैं। इससे पहले मोहाली में सिद्धू ने कहा था कि अगर कल (शुक्रवार) तक केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष की गिरफ्तारी नहीं हुई वह भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे।

No comments: