Thursday, September 2, 2021

महिला सिपाही के इश्क में पत्नी और दो मासूम बच्चों की हत्या कर घर में ही दबा दी लाशें



ग्रेटर नोएडा। एक सिरफिरे आशिक ने एक महिला कांस्टेबल के प्यार में पत्नी और दो मासूम बच्चों की हत्या कर लाशें घर में कर दीं दफन कर दी। 

ग्रेटर नोएडा वेस्ट में बुधवार की देर रात एक सनसनीखेज वारदात का खुलासा हुआ है। जनपद कासगंज पुलिस ने बिसरख क्षेत्र में एक घर की खुदाई करके तीन नर कंकाल बरामद किए हैं। यह खौफनाक वारदात चिपियाना बुजुर्ग की पंच विहार कॉलोनी में हुई। पुलिस ने ज़मीन में दफ़न 3 कंकाल खुदाई के दौरान बरामद किए। पुलिस की मौजूदगी में फावड़े और अन्य उपकरण की मदद से उस जगह खुदाई की गई जहां आरोपी ने पत्नी और दो बच्चों के शव को दफनाया था। खुदाई में मिले 3 कंकाल को डीएनए जांच के लिए भेज दिया गया है। 

एसीपी बिसरख ने बताया कि डीएनए जांच में ही पुष्टि हो पाएगी कि कंकाल आरोपी की पत्नी और दोनों बच्चों के हैं। इस घटना ने ग्रेटर नोएडा में रहने वाले लोगों को दहला कर रख दिया है। जानकारी के मुताबिक ग्रेनो वेस्ट के चिपियाना बुजुर्ग गांव के पास पंच विहार कालोनी है। यहां रहने वाला राकेश अक्सर कालोनी के लोगों के साथ झगड़ा करता था। उसका पत्नी रत्नेश के साथ व्यवहार भी गुस्से वाला रहता था। कई बार उसका पत्नी से विवाद भी होता रहता था। उसके बच्चे अवनी और अर्पित माता-पिता की लड़ाई शांत करवाते रहते थे। कालोनी के लोगों ने भी दंपती के बीच कई बार विवाद शांत कराया था। लेकिन किसी को क्या पता था कि राकेश एक महिला पुलिसकर्मी के प्यार में पागल हो चुका है। हालांकि यह बात आरोपी ने अपने दोस्तों को पहले ही बताई थी। 

यूपी पुलिस की महिला पुलिसकर्मी वर्तमान में जनपद आगरा में ताजमहल की सुरक्षा में तैनात है। उसके प्यार में पागल राकेश ने अपनी पत्नी और दो छोटे-छोटे बच्चों को मौत के घाट उतार दिया। हत्या करने के बाद आरोपी ने शवों को ग्रेनो वेस्ट में अपने घर के अंदर बेसमेंट में दफना दिया था। किसी को पता न चले इसके लिए बेसमेंट के ऊपर सीमेंट की दीवार बनवा दी थी। अब 3 साल बाद जनपद कासगंज पुलिस की सक्रियता के चलते हत्या का राज खुला है। 

एसीपी बिसरख योगेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपी राकेश ने 2018 में पत्नी और बच्चों की हत्या की थी। उसने खुद की भी मौत का नाटक रचा था। मामले की जांच कर रही जनपद कासगंज की ढोलना पुलिस ने मामले का खुलासा किया है। एसीपी ने बताया कि आरोपी राकेश की शादी 2012 में एटा की रहने वाली रत्नेश से हुई थी। राकेश उससे शादी नहीं करना चाहता था, लेकिन परिवार के दवाब में आकर रत्नेश से शादी करनी पड़ी। राकेश का पहले से ही गांव की रहने वाली रुबी से प्रेम प्रसंग चल रहा था। इस समय वह यूपी पुलिस की कांस्टेबल है और जनपद आगरा में ताज़महल की सुरक्षा में तैनात है। रूबी की पुलिस में भर्ती 2015 में हुई थी। पुलिस के मुताबिक रूबी राकेश पर शादी करने का दवाब बनाने लगी। 

राकेश ने 14 फरवरी 2018 को चिपियाना बुज़ुर्ग में स्थित अपने घर में पत्नी और दोनों बच्चों को मार डाला। उस समय उसकी बेटी अवनि 2 वर्ष और बेटा अर्पित 3 वर्ष का था। आरोप है कि वारदात में राकेश के पिता बनवारीलाल, मां इंद्रवती, भाई राजीव और प्रवेश भी शामिल थे। आरोपी चिपियाना बुजुर्ग गांव के पंचविहार कालोनी में रहता था। 

आरोपी राकेश ने 25 अप्रैल 2021 को अपने दोस्त का मर्डर कर दिया था। उसके शव के पास अपना आधार कार्ड और एलआईसी के कागज रख दिए ताकि पुलिस को यह पता चले कि उसकी हत्या हुई है। वारदात को अंजाम देकर आरोपी पहचान छिपाकर किसी दूसरे स्थान पर रहने लगा। जांच के बाद एटा पुलिस ने इसकी गिरफ्तारी की तो उसने पत्नी और दो बच्चों की हत्या का भी राज उगल दिया। 

एसीपी योगेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपी राकेश का पिता पुलिस विभाग में हेड कांस्टेबल के पद से जनपद कासगंज से रिटायर हुआ था। वह भी इस जघन्य हत्याकांड में शामिल था। कासगंज की थाना ढोलना पुलिस ने आरोपी के पिता के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया है और जांच कर रही है। पुलिस ने राकेश और रत्नेश को गिरफ्तार कर लिया है। राकेश की शिनाख्त पर ही बुधवार की देर रात उसके घर से खुदाई करके तीन नर कंकाल निकाले गए हैं।

No comments:

Featured Post

कपिलदेव अग्रवाल व उमेश मलिक ने किया सडक सुरक्षा सप्ताह का उद्घाटन

मुज़फ्फरनगर। आज एआरटीओ कार्यालय पर एआरटीओ विनीत मिश्रा के निर्देशन में सड़क सुरक्षा सप्ताह का आयोजन किया गया है जिसमें उन्होंने सड़क सुरक्षा के...