Thursday, August 12, 2021

हैवान बना शहर का हॉस्पिटल इवान, मरीज़ को पैसे की कमी के चलते बनाया बंधक, कैद से छूटे मरीज़ ने बताई आप बीती

 


मुजफ्फरनगर। शहर कोतवाली क्षेत्र के मौहल्ला दक्षिणी कृष्णापुरी निवासी मुनेश देवी पत्नी मनोज शर्मा ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को दिये गये प्रार्थना पत्र में अवगत कराया है कि उसका पति मनोज शर्मा पुत्र गोरधन शर्मा लगभग पिछले 6 माह से ठेकेदार के मार्फत एक रोलिंग मिल में लोडिंग का कार्य करता था। फैक्ट्री मालिको द्वारा उसके पति को मु. 12,000/-रू. प्रतिमाह वेतन दिया जाता था। दिनांक 10/11-07-2021 को रात्रि समय करीब 1 बजे माल लोडिंग करते समय उसके पति के पैर में लोहे की पत्ती फंस जाने के कारण उसके दाये पैर में गम्भीर चोट आ गयी थी। फैक्ट्री में मौजूद साथ काम करने वाले स्टाफ के लोग व ठेकेदार द्वारा उसके पति को रात्रि में ही निसार हॉस्पिटल मेरठ रोड विकास भवन के सामने मुजफ्फरनगर में भर्ती कराया गया, जहाँ रात्रि में उसके पति के पैर पर ड्यूटी पर भौजूद कम्पाउन्डर द्वारा मरहम पटटी की गयी। सुबह जब हॉस्पिटल में डॉक्टर साहब ने आकर देखा तो कहा कि मेरे यहां इसका इलाज सम्भव नही है चोट गम्भीर है, आप इसे इवान हॉस्पिटल लेकर जाओ। उसके बाद ठेकेदार द्वारा मेरे पति को इवान हॉसिटल में भर्ती कराया गया और ठेकेदार फैक्ट्री मालिक की मार्फत हॉस्पिटल में 20 हजार रूपये जमा किये गये। उसके पति के पैर का दिनांक 11.7.2021 में आपरेशन किया गया और इवान हास्पिटल ने मेरे पति के पर के इलाज का बिल लगभग 1,25,000/-रूपये बना दिया गया है I जिसके बाद से हॉस्पिटल के कर्मचारियों ने उसके पति को बंधक बनाकर उसकी सुरक्षा मे गार्ड बैठा दिए। साथ उस पर पैसे जमा कराने का दबाव बना रहे हैं। मैंने इस बारे में भाजपा के पदाधिकारियों से वार्ता की तो उन्होंने नई मंडी मंडल अध्यक्ष राजेश पाराशर को उक्त के साथ जाकर मदद करवाने की जिम्मेदारी दी। जिसके चलते राजेश पराशर ने नई मंडी थाने में सूचना कर उक्त मरीज़ को हॉस्पिटल के चुंगल से छुड़ाने और हॉस्पिटल के खिलाफ कार्रवाही करने को लेकर वार्ता की। उन्होंने हॉस्पिटल पहुंचकर बंधक मरीज़ को हॉस्पिटल के कर्मचारियों के चुंगल से छुड़ाकर उसे उसके परिवार के साथ घर भेज दिया। इस दौरान उनके साथ भाजपा के युवा नहीं मंडी मंडल अध्यक्ष शुभम भारद्वाज सहित कई अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे।

2 comments:

Parm said...

गरीब आदमी के साथ अगर कोई ना हो तो कोई सुनवाई नहीं है मैं धन्यवाद बोलना चाहुंगा पराशर जी को.ऐसे हाय एच

Parm said...

गरीब आदमी के साथ अगर कोई ना हो तो कोई सुनवाई नहीं है मैं धन्यवाद बोलना चाहुंगा पराशर जी को.

Featured Post

कपिलदेव अग्रवाल व उमेश मलिक ने किया सडक सुरक्षा सप्ताह का उद्घाटन

मुज़फ्फरनगर। आज एआरटीओ कार्यालय पर एआरटीओ विनीत मिश्रा के निर्देशन में सड़क सुरक्षा सप्ताह का आयोजन किया गया है जिसमें उन्होंने सड़क सुरक्षा के...