Wednesday, August 11, 2021

निचली अदालत से फांसी की सजा के बाद आजीवन कारावास काट रहे सात लोगों को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत

 


मुजफ्फरनगर। शाहपुर इलाके में गांव हरसौली के नसीम हत्याकांड में सुप्रीम कोर्ट ने 11 साल से अधिक समय से जेल में बंद सात दोषियों को जमानत दे दी है। सभी अभियुक्तों को इससे पहले एडीजे-11 कोर्ट ने दोषी करार देते हुए फांसी की सजा सुनाई थी, जिसे बाद में हाईकोर्ट ने आजीवन कारावास में तब्दील कर दिया था।

सूत्रों के मुताबिक शाहपुर क्षेत्र के गांव हरसौली निवासी नसीम की 25 फरवरी 2010 को कुछ लोगों द्वारा घर में घुसकर ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुए हत्या कर दी गई थी। हमले में खलील, रैयान व शकील घायल भी हो गए थे। नसीम के भाई इरफान ने गांव के ही सरफराज, अरशद, शाहिद, फारूख, राशिद, सादिक व मुमताज के खिलाफ हत्या व कातिलाना हमले की नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके बाद पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इसके बाद से ही सभी आरोपी लगातार जेल में ही बंद हैं। नसीम हत्याकांड की सुनवाई एडीजे-11 कोर्ट में हुई, जहां न्यायाधीश राजेश भारद्वाज ने सभी सातों आरोपियों को दोषी करार देते हुए 20 नवंबर 2018 को फांसी की सजा सुनाई थी। बाद में हाईकोर्ट ने इसे आजीवन कारावास में बदल दिया था।

No comments:

Featured Post

सपा यूथ ब्रिगेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने दिया बूथ जीतने का मंत्र

मुजफ्फरनगर । सपा कार्यालय पर मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड राष्ट्रीय अध्यक्ष सिद्धार्थ सिंह ने कार्यकर्ताओं को बूथ जीतने का मंत्र दिया।  उनके...