एक करोड़ तक हो सकती है शेरनगर में बरामद दवाओं की कीमत




मुजफ्फरनगर । शेरनगर में छापे के दौरान करीब एक करोड़ की कीमत की एक्सपायर दवाईयों का ज़खीरा देखकर सिटी मजिस्ट्रेट और औषधि निरीक्षक भी अचंभे में रह गये। 

आज सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक कुमार सिंह व ड्रग्स विभाग की टीम को उस समय बड़ी क़ामयाबी हाथ लगी,जब मंडी कोतवाली क्षेत्र के शेरनगर गाँव मे मुखबिर की सूचना पर सिटी मजिस्ट्रेट व ड्रग्स इंस्पेक्टर लव कुश ने पुलिस फोर्स के साथ नवनिर्वाचित ग्राम प्रधान इकराम के छोटे भाई ईनाम के घर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान पुलिस ने तीन मंजिले घर के अंदर से सैम्पल व बिना सैम्पल की एक्सपाइरी दवाईयों का ज़खीरा बरामद किया है।जिसकी क़ीमत लगभग 50 लाख रुपए से एक करोड़ रुपये बताई जा रही है। सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि नवनिर्वाचित प्रधान इकराम के बारे में भी जानकारी कि जा रही है कि इसकी संलिप्ता दवाइयों के व्यापार में तो नही थी। इस दौरान आरोपी ईनाम मौके से फ़रार होने में कामयाब हो गया। इस मामले में सिटी मजिस्ट्रेट व ड्रग्स इंस्पेक्टर ने जानकारी देते हुए बताया कि मौके से बड़ी मात्रा में सैम्पल व बिना सेम्पल की एक्सपाइरी दवाईयों का ज़खीरा बरामद हुआ है। इसकी काउंटिंग  की जा रही है और दवाइयों  के बारे में पूरी जानकारी करने के लिए सहारनपुर ओर मेरठ से टीम बुलाई गई है जो इसका पूरा ब्यौरा देगी। इन दवाईयों की बाजार में लगभग कीमत 50 लाख रुपये से एक करोड़ रुपए से भी अधिक होने की सम्भावना है। बताया जा रहा है कि यहाँ पर इन एक्सपाइरी दवाईयों की डेट मिटाकर उन्हें रीप्रिंट कर मार्किट में बेचने का काम किया जा रहा था। इस मामले में आरोपी इनाम के खिलाफ ड्रग्स एक्ट 18/27 की धारा में कार्यवाही की जायेगी। टीम अब इन दवाईयों के ज़खीरे को सीज कर ये पता लगाने की कोशिश में जुट गई है कि कहीं इसमे कोरोना की दवाईयां तो नहीं है और कही कोरोना काल में इन दवाईयों को बाज़ार में सप्लाई तो नहीं किया गया है। ये भी पता लगा है कि आरोपी इनाम 10 साल से ये दवाइयों का धंधा कर रहा है। ड्रग्स इंस्पेक्टर ने बताया कि आरोपी के पास ड्रग्स लाइसेंस भी नहीं है और ना ही वह कोई क्लिनिक चलाता है और ना ही इसके पास मेडीकल स्टोर है। सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक कुमार सिंह ने बताया कि इसके बारे में जांच पड़ताल शुरू हो गयी है कुछ और भी बड़ा खुलासा हो सकता है। छापेमारी के दौरान गांव में सैकड़ों ग्रामवासियों का हुजूम भारी पुलिस फोर्स देखकर इकठ्ठा हो गया। दवाओं को लेकर अब तक कि सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक कुमार सिंह की ये बड़ी कार्यवाही मानी जा रही है। छापेमारी के दौरान सिटी मजिस्ट्रेट अभिषेक कुमार सिंह,ड्रग्स इंस्पेक्टर लवकुश कुमार, थाना नई मंडी इंचार्ज अनिल कपरवान सहित भारी पुलिस फोर्स मौजूद रहा।

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

रालोद और भाकियू के नाम पर हुडदंग करने वालों पर लाठीचार्ज, पांच गिरफ्तार