मेरठ : कोरोना से मौत के 20 दिन बाद जिंदा हो गया मरीज ,अस्‍पताल.व जिला प्रशासन में मचा हडकंप

 


मेरठ । कोरोना काल में जहाॅे एक और पूरी दुनिया हलकान है वही मेंरठ कें एक अस्पताल की गलती ने बागपत के स्वास्थ्य विभाग की परेशानी को बढ़ा दिया है। अस्पताल में उपचार करा रहे कोरोना संक्रमित को करीब 20 दिन पहले ही मृत दर्शा दिया गया। पोर्टल पर भी उसकी मौत दर्शाई गई। बागपत के अधिकारियों ने संदेह होने पर वेरिफिकेशन कियाए तो मृत दर्शाया गया रोगी जिंदा मिला। इसके बाद पोर्टल से बुधवार को मृत व्यक्ति का नाम हटा दिया गया।

कोरोना की दूसरी लहर ने बागपत जिले में भी खूब कोहराम मचाया। अप्रैल व मई माह से करीब 100 लोगों की मौत हो गई, जबकि 7 हजार से अधिक लोग वायरस से संक्रमित हुए। हालात ऐसे बन गए थे कि कोरोना संक्रमित उपचार कराने के लिए बागपत के साथ ही मेरठ और गाजियाबाद के अस्पतालों में भर्ती होने लग गए थे। बागपत से भी गंभीर रोगियों को मेरठ रेफर किया जा रहा था। इसी दौरान बागपत शहर का एक रोगी मेरठ के एक अस्पताल में भर्ती हुआ। उसकी हालत गंभीर थी। इस दौरान अस्पताल प्रशासन से बड़ी चूक हो गई। उसने जिंदा रोगी को मृत दर्शा दिया।

उसकी रिपोर्ट करीब 20 दिन पूर्व बागपत प्रशासन को भेज दी गई थी। रोगी की मौत को पोर्टल पर भी दर्शा दिया। अब स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को एक नाम के दो व्यक्तियों की मौत पोर्टल पर देख संदेह हुआ। इसके बाद उसने वेरिफिकेशन कराया। वेरिफिकेशन में पता चला कि जिस रोगी को मेरठ के अस्पताल द्वारा मृत दर्शाया गया थाए वह जिंदा मिला। बुधवार को स्वास्थ्य विभाग ने उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुए उसके नाम को पोर्टल से हटा दिया। सीएमओ डाण् आरके टन्डन ने बताया कि मेरठ के एक अस्पताल से चूक हुई थी। उसने जिंदा व्यक्ति को मृत दर्शा दिया था। पोर्टल से मृत दर्शाए गए व्यक्ति के नाम को हटा दिया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

रालोद और भाकियू के नाम पर हुडदंग करने वालों पर लाठीचार्ज, पांच गिरफ्तार