गीतकार राजेन्द्र राजन का कोरोना से निधन



सहारनपुर। मूलतः शामली के ऐलम निवासी जाने माने गीतकार राजेन्द्र राजन का गुरुवार सुबह दुखद निधन हो गया। 65 वर्षीय राजन दो दिन से अस्वस्थ थे। बुधवार को तबीयत ज्यादा  बिगड़ने पर उन्हें  देर शाम सहारनपुर के मेडिकल कालेज में भर्ती कराया गया था। गुरुवार सुबह उनका निधन हो गया।

गीतकार राजेंद्र राजन का साहित्य जगत में बड़ा नाम था। 

राजेंद्र राजन 1980 में सहारनपुर में आकर रहने लगे। उनके बड़े पुत्र पल्लव एयरफोर्स से सेवानिवृत्त होकर बैंक में कार्यरत हैं जबकि छोटे पुत्र प्रशांत एक कंपनी में जॉब करते हैं। राजन के पुत्र प्रशांत ने बताया कि दो दिन पहले लखनऊ में एक कवि सम्मेलन से आने के बाद से उनके पिता की तबियत कुछ खराब थी। इसके चलते उन्होंने मुजफ्फरनगर में डॉ. पीके शर्मा से जांच कराई, जिसमें उनके फेफड़ों में इंफेक्शन आया था, साथ ही हल्का नमोनिया भी था। इसके चलते उनकी कोरोना जांच भी कराई गई थी। उनकी आरटीपीसीआर रिपोर्ट भी गुरुवार दोपहर को आने की संभावना है।  बुधवार देरशाम तबियत ज्यादा खराब होने पर उन्हें सहारनपुर मेडिकल कॉलेज में एडमिट कराया गया, जहां डॉक्टर ने बताया कि उनका ऑक्सिजन लेवल 40 पर पहुंच गया है, गुरुवार सुबह राजन ने अंतिम सांस ली। कोरोना रिपोर्ट भले ही न आई हो लेकिन डॉक्टर के अनुसार राजन में सारे लक्षण कोरोना वाले ही थे, जिसके चलते उनके पार्थिव शरीर को पूरी तहर प्लास्टिक में पैक कर दिया गया।   

राजन के पुत्र प्रशांत ने बताया कि उनके पिता कोरोना वैक्सीन की पहली डोज लगवा चुके थे, जबकि अभी दूसरी लगनी बाकी थी। इसी बीच उनका स्वास्थ्य बिगड़ा और दुनिया का अलविदा कह दिया। उनके निधन से साहित्य जगत को गहरा शोक छा गया


Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा