Sunday, April 4, 2021

प्रेम प्रसंग में हुई शादाब की हत्या, दो गिरफ्तार


मुजफ्फरनगर । 10 दिन में ही बुढ़ाना कोतवाल ने गांव जौला के शादाब की हत्या का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त डंडा बरामद कर दो हत्यारों को जेल भेज दिया है। पुलिस की जांच में मामला प्रेम प्रसंग का मिला है। एसपी देहात ने बुढ़ाना कोतवाली पहुंचकर पत्रकारों के समक्ष उक्त हत्याकांड का खुलासा करने पर बुढ़ाना कोतवाल व उनकी टीम को शाबाशी दी है। मिली जानकारी के अनुसार बीती 24 मार्च को बुढ़ाना कोतवाली क्षेत्र के गांव जौला के जंगलों में एक 19 वर्षीय किशोर की लाश मिली थी। जिसकी शिनाख्त गांव जौला के शादाब पुत्र मुनसब राणा के रूप में हुई थी। दरअसल शादाब रात को समीपवर्ती गांव जोगियाखेडा में किसी के यहां दावत में खाना खाने गया था। तब वह अगले दिन भी अपने घर नहीं लौटा था। घरवालों ने उसको अपने स्तर से काफी तलाश किया और पुलिस को भी सूचना दी लेकिन वह जिंदा नहीं मिला अलबत्ता उसकी लाश मिल गई। तब मौके पर एसएसपी अभिषेक यादव भी आये थे। जिन्होंने बुढ़ाना सीओ विनय गौतम को उक्त हत्याकांड का खुलासा जल्दी ही करने के निर्देश दिए थे। बस पुलिस ने तभी से इस हत्याकांड का खुलासा करने के लिए रात दिन भागदौड़ करनी शुरू कर दी थी। पुलिस ने इस मामले में शक के आधार पर दर्जन भर लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया था। बाद में पुलिस को कुछ सुराग हाथ लगे तो उसी आधार पर पुलिस ने आदिल पुत्र शमशाद और वसीम पुत्र कल्लू निवासीगण ग्राम जौला कोतवाली बुढ़ाना को पकड़ा तो उन्होंने सख्ताई से पूछताछ होने पर पुलिस को बता दिया कि उन्होंने ही शादाब की हत्या की। पुलिस को वसीम ने बताया कि मृतक शादाब का गांव की लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था। वह लड़की उसकी प्रेमिका थी। इसलिए वह शादाब से रंजिश रखने लगा। तब यह बात उसने लड़की के भाई आदिल को बतायी तो फिर हम दोनो ने योजनाबद्ध तरीके से बीती 22 मार्च की रात्रि में ही शादाब के गले में बैल्ट का फन्दा डालकर उसकी डन्डों से पीट पीटकर हत्या कर दी तथा शव को छुपाने के उद्देश्य से शादाब के शव को ईंख के खेत मे फेंक दिया। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त डंडा भी बरामद किया है। हत्याकांड का खुलासा करने वालों में कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक मगनवीर सिंह गिल, एसएसआई लेखराज सिंह, गढ़ी सखावतपुर पुलिस चौकी के प्रभारी अनिल कुमार, हैड कांस्टेबल संदीप कुमार, कांस्टेबल मनोज कुमार, अनिल कुमार, कुलवंत सिंह और जीत सिंह पुलिसकर्मी हैं।

No comments: