Tuesday, March 9, 2021

प्रणवाक्षर ने स्त्री शक्ति को किया सम्मानित

गाजियाबाद।  उत्तरपदेश की प्रसिद्ध संस्था  "प्रणवाक्षर  साहित्यिक, समाजिक, सांस्कृतिक संघ "ने महिला दिवस पर आठ विशेष  स्त्री शक्तियों को सम्मानित किया । संस्था की  लगभग तीस वर्ष पुरानी सक्रिय  विंग "संयुक्त ग्रामीण विकास समिति" गांवों में सामाजिक सेवा के कार्यक्रम करती रहती  है। कोरोना में भी , समय- समय पर गरीबों  को भोजन ,मास्क, साबुन ,सेनेटाइजर ,कैप ,राशन आदि  वितरित करवाया , आज तक कभी कोई सरकारी लाभ सहयोग  नहीं लिया यह सब वह स्वयं ही ऑर्गनाइज करती है । क्योंकि कोरोना में  दर्शक आने में कतराते  हैं इसलिए  महिला दिवस को आठ विशेष  स्त्री शक्तियों  को ऑनलाइन  सम्मानित  किया है  ।साहित्यकार  डॉ वर्षा चौबे  ,डॉ प्रीति खरे  भोपाल से वरिष्ठ साहित्यकार हैं ।उन्हें अनेक सरकारी गैर सरकारी सम्मानों से सम्मानित किया गया है ।शैल अग्रवाल इंग्लैंड से वरिष्ठ साहित्यकार हैं , पुणे से सुषमा गजापुरे ,    "साहित्य सुषमा" और "बचपन "की संपादक हैं  नवभारत की कॉलमिस्ट  श्रेष्ठ रचनाकार हैं। नारी के अधिकारों के लिए अनवरत  लिखती रही हैं।  स्मिता सिंह  वरिष्ठ लेखक  एवं पत्रकार  हैं जो हमेशा नारी शक्ति  के   सम्मान ,सहयोग संरक्षण में विशेष भूमिका अदा करती रही हैं ।उन्हें हमेशा  एक सशक्त स्त्री की भूमिका  में  देखा जाता है  । वेद श्री  गोल्ड मेडलिस्ट  तथा रागिनी ब्रांस मेडलिस्ट  शूटर  है ।  दोनों बनारस से हैं , डॉ वर्चसा सैनी मुजफ्फरनगर से  हैं। वे प्रोफेसर एवं   सामाजिक कार्यकर्ता हैं ।समाज सेवा, महिला संरक्षण में वे बढ़ चढ़कर सक्रिय भूमिका अदा करती रही हैं  ।  घरेलू हिंसा की शिकार महिलाओं की मदद करती रही  हैं ।  संस्था की अध्यक्ष डॉ पुष्पलता मुजफ्फर नगर ने कहा सभी  आठ विशेष स्त्री शक्तियों को   महिला शक्ति सम्मान 2021  से   सम्मानित  करते हुए "प्रणवाक्षर साहित्यिक सामाजिक सांस्कृतिक संघ "गर्व महसूस कर रहा है।उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए उम्मीद करता है कि वे आगे भी इसी तरह समाज साहित्य एवं अपने क्षेत्र में विशेष भूमिका अदा करती रहेंगी ।









No comments:

Featured Post

वार्ड 41 की जिला पंचायत सदस्य का प्रमाणपत्र मिला फर्जी

 मुज़फ्फरनगर। 41 नम्बर जिला पंचायत सदस्य जरीन का जाति प्रमाणपत्र फ़र्ज़ी पाया गया है। एसडीएम सदर ने इसे निरस्त करने की संस्तुति की है।