Wednesday, March 10, 2021

शिव खोडी : भस्मासुर से बचने के लिए यहां पहुंचे थे भगवान शिव



 शिव रात्रि पर्व पर विशेष :

    जम्मू कश्मीर

शिव खोड़ी 🔱 शिव भगवान की पवित्र प्राचीन प्राकृतिक गुफा :

 शेषनाग व पंचमुखी गणेशसहित देवी-देवताओं के दर्शन एंव पवित्र शिवलिंग पर टपता है दूध

भस्मासुर से बचने को छिपे थे: यही से पहुंचे थे अमरनाथ गुफा


जम्मू-कश्मीर स्थित भगवान शिव के विश्व प्रसिद्ध धाम अमरनाथ से तो आप भलीभांति परिचित होंगे ही लेकिन यहाँ भगवान शिव का एक और प्राचीन और ऐतिहासिक महत्व का मंदिर है जिसका नाम है शिवखोड़ी धाम। मान्यता है कि इस मंदिर में भगवान के दर्शन किये तो आपका स्वर्ग जाना तय है। शिवखोड़ी एक ऐसी अलौकिक और अद्भुत गुफा है जिसमें भगवान शिव अपने पूरे परिवार के साथ वास करते हैं और मान्यता है कि इसी गुफा का रास्ता सीधा स्वर्ग लोक की और जाता है क्योंकि यहाँ स्वर्ग लोक की ओर जाने वाली सीढ़ियां भी बनी हुई हैं और साथ ही इस गुफा का दूसरा छोर सीधा अमरनाथ गुफा की ओर निकलता है।

        श्री माता वैष्णो देवी कटड़ा के बाद जिला रियासी के दूसरे सबसे बडे़ धार्मिक स्थल श्री शिवखोड़ी धाम रनसू श्रद्धालुओं के लिए 12 महीने खुला है मगर शिव रात्रि का विशेष महत्व है यहां 10 मार्च से 13 मार्च तक पर्यटन विभाग व श्राईन बोर्ड द्वारा विशेष  मेले का आयोजन किया जाता है अनेक हिन्दू संगठनों द्वारा भक्तों के लिए लंगर की व्यवस्था की जाती है कोविड -19 के बाद 16 अगस्त को मंदिरों के खुलने से प्राकृतिक गुफा के दर्शन हेतु श्रद्धालु शिवखोड़ी धाम पहुंचने लगे और  इनमें  श्रद्धालुओं स्थानीय श्रद्धालुओं के अनूरुप दूसरे राज्यों से आने वाले भक्तों की संख्या बढ़ी तादाद में होती है ।

इस गुफा में भगवान के अर्ध नारिश्वर रूप के दर्शन होते हैं, जम्मू से करीब 120 किलोमीटर दूर है जो जम्मू संभाग के रियासी जिले में स्थित है। इस गुफा में प्राकृतिक रूप से शिवलिंग बना हुआ है जिसकी ऊंचाई करीब साढ़े तीन से 4 फीट के बीच है, इतनी ही नहीं इस शिवलिंग के ऊपर अमृत की बूंदें यानि गंगा जल की बूंदें लगातार टपकती हैं। प्राचीन कथाओं के अनुसार पहले इस शिवलिंग पर दूध की धारा लगातार गिरती थी क्योंकि कामधेनु गाय के थन भी इन शिवलिंग के ऊपर ही बने हुए हैं। कथाओं के अनुसार इस शिव गुफा में भगवान शिव अपने पूरे परिवार के साथ वास करते हैं तो वहीं 33 करोड़ देवी देवता भी इस गुफा वास करते हैं।


  जम्मू कश्मीर राज्य के रियासी जिले में श्री शिवखोड़ी धाम में भगवान शिव ने भस्मासुर को भस्म किया था। पौराणिक कथा के अनुसार भस्मासुर ने भगवान शिव की आराधना कर उनको प्रसन्न किया, जिसके फलस्वरूप शिव ने उसको मुंह मांगा वर देते हुए कहा कि भस्मासुर जिसके भी सिर पर हाथ रखेगा वह वहीं भस्म हो जाएगा। शिव से वरदान मिलने के बाद भस्मासुर अहंकारी हो गया। उसने अहंकार में आकर शिव को ही भस्म करने की सोची और उनका पीछा करने लगा। भगवान शिव भस्मासुर की मंशा को भांपते हुए शिवखोड़ी की पहाड़ियों में आकर एक गुफा में बैठ गए। भस्मासुर के पीछा करने के उपरांत शिव ने मनमोहनी रूप धारण कर लिया तथा गुफा के बाहर आकर नृत्य करने लगे। मनमोहनी व सुंदर स्त्री को देखकर भस्मासुर भी उनके साथ नृत्य करने लगा। इस दौरान जैसे ही शिव ने अपना हाथ अपने सिर पर रखा तो भस्मासुर ने उनका अनुसरण करते हुए अपना हाथ अपने सिर पर रख लिया, इसके बाद वह वहीं भस्म हो गया।

   शिवखोड़ी की प्राकृतिक गुफा संगड़ की पहाड़ियों में स्थित है। पुरानी गुफा से भीतर जाने का रास्ता काफी संकरा और टेढ़ा-मेढ़ा है। वहां से खड़े होकर अथवा बैठ कर ही निकला जा सकता है। लगभग तेरह वर्ष पहले कोंकण रेलवे की तरफ से एक नई गुफा का निर्माण किया गया, जिससे श्रद्धालु किसी भी प्रकार से अंदर जा सकते हैं। शिवखोड़ी के आधार शिविर रनसू से जम्मू, कटड़ा, उधमपुर या फिर अन्य किसी भी स्थान से किसी भी वाहन के जरिये पहुंचा जा सकता है। आधार शिविर से गुफा तक पौने चार किलोमीटर की सरल चढ़ाई है। इसके अलावा घोड़ा पालकी की भी सेवा ली जा सकती है।

श्री शिवखोड़ी श्राइन बोर्ड रनसू की तरफ से पैदल ट्रैक पर सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी हैं। यहाँ पानी की व्यवस्था के साथ ही शौचालय भी बनाए गए हैं। गुफा के बाहर पांच मंजिला इमारत बना कर कमरे बनाए गए हैं। इसके साथ ही लॉकर की भी व्यवस्था की गई है। महाशिवरात्रि के मौके पर यहाँ प्रतिवर्ष दो लाख श्रद्धालु आते हैं, जिसके लिए पूरे इंतजाम किए गए होते हैं।

  गौरतलब है शिवखोड़ी में रोजाना पांच से छह हजार श्रद्धालु पहुंचते थे। ज्यादातर यात्री कटड़ा में माता वैष्णो देवी के दर्शन बाद यहां आते थे। अब कटड़ा में यात्रा शुरू होने के बाद ही रनसू शिवखोडी में बम बम भोले का जयघोष गूंजने लगा ।


देश में ऐसे कई धार्मिक स्थल हैं जहां शिव जी अपने विभिन्न रूपों में विराजमान हैं।  जिस गुफ़ा की हम बात कर रहे हैं वो शिवालिक पर्वत की श्रृंखलाओं में स्थित है, जहां प्रकृति-निर्मित शिवलिंग और अन्य दुर्लभ प्रतिमाएं स्थापित हैं। कहा जाता है ये प्राकृतिक गुफ़ा हर शिवभक्त के लिए बहुत मायने रखती हैं।


जम्मू-कश्मीर राज्य के जम्मू से कुछ दूरी पर स्थित है रयासी में ही भगवान शिव का घर कही जानेवाली शिवखोड़ी गुफा स्थित है। इससे जुड़ी सबसे हैरानी वाली बात ये है कि इसी गुफा का दूसरा छोर अमरनाथ गुफा में खुलता है। यही कारण है कि शिवखोड़ी शिव भक्तों की आस्था का केंद्र बिंदु माना जाता है।

     इस चमत्कारी गुफ़ा में देवों के देव महादेव भोलेनाथ शिवखोड़ी गुफ़ा के दर्शन करने जाने के लिए अप्रैल से लेकर जून तक का मौसम सबसे अच्छा माना जाता है। क्योंकि इस दौरान यहां का मौसम बेहद सुहावना और ठंडा रहता है। इसके बारे में कहा जाता है कि प्रकृति की गोद में बसी हुई यह एक ऐसी दुर्लभ जगह है, जहां अपने आप ही आदिकाल से ही लेकर अब तक भगवान शिव की महिमा बनी हुई है।

दूध सा सफ़ेद जल

माना जाता है कि शिवखोड़ी गुफ़ा में समस्त 33 कोटि देवी-देवता निवास करते हैं। बता दें कि यह स्थान जम्मू से करीब 120 कि.मी. एवं कटरा से 85 कि.मी. दूर उधमपुर ज़िले में स्थित है। रनसू (रणसू) से शिवखोड़ी की गुफ़ा करीब 3.5 कि.मी. दूर रह जाती है। यहां से पैदल व खच्चर के द्वारा बाबा भोलेनाथ की यात्रा प्रारंभ हो जाती है। इसके अलावा रनसू से थोड़ा आगे चलने पर लोहे का एक छोटा सा पुल आता है, जो नदी पर बना हुआ है। लोक मान्यता के अनुसार इस नदी को दूध गंगा कहते हैं। इससे जुड़ी किंवदंति के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन इस नदी का जल स्वतः ही दूध के समान सफ़ेद हो जाता है।


इससे आगे एक कुंड आता है, जिसे अंजनी कुंड के नाम से जाना जाता हैं। इसी कुंड के पास नीलकंठ की सवारी ‘नंदी’ यानि ‘बैल’ के पैरों के निशान हैं। मान्यता है कि नंदी इस कुंड में पानी पीने आते था ,हर-हर महादेव, बम-बम भोले, भोले तेरा रूप निराला शिवखोड़ी में डेरा डाला आदि जैसे जयकारों के साथ भक्त काफ़िले में आगे बढ़ते हैं। करीब एक किलोमीटर आगे चलने पर 'लक्ष्मी-गणेश' का मंदिर आता है। जिसके अंदर छोटी सी एक गुफ़ा में प्राचीन लक्ष्मी-गणेश की मूर्ति है। इसके अलावा नीचे से बहती हुई दूध गंगा की कल-कल ध्वनि मंदिर की शोभा में और चार चांद लगाती है।

▪️

शिवखोड़ी एक ऐसी अलौकिक और अद्भुत गुफा है जिसमें भगवान शिव अपने पूरे परिवार के साथ वास करते हैं और मान्यता है कि इसी गुफा का रास्ता सीधा स्वर्ग लोक की और जाता है क्योंकि यहाँ स्वर्ग लोक की ओर जाने वाली सीढ़ियां भी बनी हुई हैं और साथ ही इस गुफा का दूसरा छोर सीधा अमरनाथ गुफा की ओर निकलता है।▪️


✍️  जगबीर सिंह पाल

148/6 राजीव कालोनी बड़ी ब्राह्मणा, जम्मू

No comments:

Featured Post

वार्ड 41 की जिला पंचायत सदस्य का प्रमाणपत्र मिला फर्जी

 मुज़फ्फरनगर। 41 नम्बर जिला पंचायत सदस्य जरीन का जाति प्रमाणपत्र फ़र्ज़ी पाया गया है। एसडीएम सदर ने इसे निरस्त करने की संस्तुति की है।