Tuesday, March 9, 2021

3 चलती कारें एक लड़की और एक दर्जन बलात्कारी, वीडियो वायरल

 जयपुर । तीन चलती कारों में एक दर्जन लोगों ने एक लडकी के साथ दुष्कर्म किया। मामला छह माह तक दबा रहा, क्योंकि दुष्कर्मी वीडियो वायरल करने की धमकी देते रहे। अब दुष्कर्मियों ने ही इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया तो हडकंप मच गया।

सोशल मीडिया पर एक युवती के साथ गैंगरेप का वीडियो वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि घटना करीब 6 महीने पहले की है, जिसमें एक लड़की के साथ तीन अलग-अलग कारों में सामूहिक दुष्कर्म व मारपीट की घटना हुई थी। पुलिस को इसकी जानकारी मिली तो जांच में सामने पता चला कि घटना राजस्थान के जयपुर की है। वीडियो की जांच में पता चला कि पीड़िता यूपी की रहने वाली है । इसके बाद पुलिस ने उसे जयपुर बुलाकर केस दर्ज करवाया और मामले में तीन आरोपियों को दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया है। जयपुर एडिशनल पुलिस कमिश्नर अजय पाल लांबा ने घटना के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि पीड़िता ने अपने साथ हुई दरिंदगी का केस दर्ज कराया है, जिसमें उसने बताया है कि वह बीते साल 2020 के अक्टूबर की 19 तारीख को न्यू सांगानेर रोड स्थित साईं कृपा होटल में रुकी थी। इसी दौरान उसके जान-पहचान का एक संजू बंगाली नाम का युवक मिला। संजू ने युवती को पैसों का लालच देकर उसे एक दूसरे लड़के के साथ भेज दिया। उस लड़के ने पीडिता को मांग्यावास में एक कार में बैठा लिया। लड़के ने उसे जिस कार में बैठाया, उसमें पहले से ही चार अन्य लोग बैठे हुए थे। कार में बैठते ही युवकों ने महिला का मोबाइल छीन लिया और उसके साथ हैवानियत को अंजाम दिया। वहीं, आरोपी युवकों ने इस दरिंदगी का वीडियो शूट कर लिया। पीड़िता ने बताया कि वे युवक उसके साथ मारपीट कर ही रहे थे कि दो कारों से कुछ और लोग वहां पहुंच गए और उसे खींचकर दूसरी कार में ले गए और दुष्कर्म किया। मामले में करीब 12 लोगों को आरोपी माना जा रहा है जो कि युवती के साथ दुष्कर्म और मारपीट की घटना में शामिल थे। पीड़ित लड़की ने बताया कि वह इन आरोपियों में केवल गुलाब और अभिषेक नाम के आरोपी को जानती है। गुलाब ही ने उसे धमका कर कहा था कि यदि इस बारे में किसी को कुछ बताएगी तो उसका वीडियो वायरल कर दिया जाएगा। इसी के चलते महिला पिछले छह महीने से चुप थी।

उन्होंने बताया कि इस गंभीर मामले में वायरल वीडियो के सामने आते ही हमने तत्काल एक्शन लेते हुए कई पुलिस टीमें बनाई। जांच प्रक्रिया में रविवार सुबह जाकर पता चला कि पीड़िता यूपी के हरदोई की थी। इसके बाद स्थानीय पुलिस की मदद से उसे जयपुर बुलाकर मानसरोवर थाने में मामला दर्ज करवाया। साथ ही पुलिस ने पीड़िता का मेडिकल करवाकर 161 सीआरपीसी के बयान करवा दिये हैं। पीड़िता के वायरल हो रहे वीडियो को भी आईटी टीम की मदद से रुकवाया गया है। इसके बाद पीड़िता के बयानों के आधार पर पुलिस टीमों ने लखनऊ, इंदौर और जयपुर के कई इलाकों में दबिश देकर अभिषेक, मोंटी और संजू बंगाली को गिरफ्तार किया है। इस प्रकरण पर एडिशनल पुलिस कमिश्नर लाम्बा ने आगे कहा कि हमें इन तीनों आरोपियों से पता चला है कि यह गैंग अश्लील वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने का काम करता है। साथ ही हम अन्य आरोपियों को भी जल्द गिरफ्तार करने के लिए कई जगहों पर दबिश दे रहे हैं, उम्मीद है कि सभी को जल्दी ही पकड़ लिया जाएगा।


No comments:

Featured Post

सुनील बंसल ने भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं को दी ये हिदायत

लखनऊ । भाजपा के बूथ से लेकर मंडल व जिले के सभी पदाधिकारी सरकार और संगठन के कार्यों को जन.जन तक पहुंचाने का काम करें। 2017 और 2019 से अब तक प...