सरकारी आयोजन में रालोद समर्थकों ने जमकर मचाया हंगामा


 मुजफ्फरनगर । खतौली में आयोजित किसान मेले में रालोद समर्थकों ने जमकर हंगामा किया और कुर्सियों को उलट पलट दिया। 

आज आयोजित मेले में विकास खंड अधिकारी पवन विश्वकर्मा द्वारा प्रमाण पत्रों का वितरण शुरू ही हुआ था कि रालोद पार्टी के करीब बीस पच्चीस कार्यकर्ता मेले में घुस गए। कार्यकर्ताओं ने सरकार विरोधी नारेबाजी शुरू कर दी। रालोद जिलाध्यक्ष अजीत राठी ने माइक कब्जाकर मंच से सरकार विरोधी भाषण देना शुरू किया। उन्होने कहा कि पिछले करीब पचास दिनों से देश के किसान दिल्ली बार्डर पर अपने हक के लिए डटे हुए है। 70 किसान अपनी जान भी गवा चुके हैं, लेकिन सरकार पर कोई असर होता नजर नहीं आ रहा है। एक ओर तो किसान बार्डर पर मर रहा है दूसरी ओर सरकार ऐसे मेले का आयोजन कर जश्न मना रही है। रालोद जिलाध्यक्ष की बातें सुनकर नावला निवासी एक किसान ने सरकार पर लगाए आरोपों को निराधार बताया तो रालोद कार्यकर्ताओं ने उसको घेर लिया। कुछ देर तक तो किसान ने रालोद नेताओं की बोलती बंद की, लेकिन उसके बाद कार्यकर्ता किसान पर भडक गए। इस दौरान काफी देर तक हंगामा रहा। रालोद कार्यकर्ताओं ने कार्यक्रम में रखी कुर्सियां फेंकनी शुरू कर दी। जिससे कार्यक्रम में अफरातफरी मच गई। करीब आधे घंटे चले हंगामे के बाद रालोद कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए कार्यक्रम स्थल से निकल गएं। वह जहां से भी गुजरे उन्होंने वहां पर ही तोडफोड की। कार्यालय में लगाए गए कार्यंक्रम के गेट को उखाड दिया। वहां लगे गुब्बारे नीचे डालकर फोड दिए। इस दौरान जिलाध्यक्ष के साथ ही प्रदेश महासचिव धर्मेन्द्र तोमर, विदित मलिक, पंकज राठी, विकास बालियान, राकेश चौधरी, सुधीर भारतीय, दीपक सिवाच, दीपक बालियान, अमित चौधरी, अकुश मलिका, आदेश तोमर आदि कार्यकर्ता कार्यालय में लगे गुब्बारों को तोडते हुए विकास खंड कार्यालय से बाहर निकल कर दिल्ली की ओर कूच कर गएं। हंगामे के दौरान मौजूद विभागीय अधिकारियों ने कार्यक्रम से बाहर निकल कर जान बचाई। कार्यकर्ताओं के जाने के बाद अधिकारियों ने प्रमाण पत्र वितरण किए।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा