बैरिकेड्स तोड किसानों ने की दिल्ली में घुसने की कोशिश


नई दिल्ली। पुलिस के साथ तय हुई व्यवस्था के बावजूद किसानों ने गणतंत्र दिवस समारोह से पहले ही दिल्ली में घुसने की कोशिश में सुबह-सुबह सिंघु बॉर्डर पर बैरिकेट्स तोड़ दिए। वहीं, लोनी सीमा पर कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों ने रात में ही दिल्ली में घुसने की कोशिश की।

जय किसान आंदोलन (स्वराज अभियान) के प्रवक्ता ने बताया कि ट्रैक्टर मार्च पूर्वाह्न 11 बजकर 30 मिनट पर शुरू होने की संभावना है और इसके 10 से 12 घंटे तक चलने की उम्मीद है। कुछ ट्रैक्टर आंदोलन के दौरान मरने वाले किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। संगरुर के किसान परिवार से संबंध रखने वाले कलाकार परमिंदर सिंह अपनी एक पेंटिंग के जरिये किसानों के साथ एकजुटता प्रकट करेंगे, इस तस्वीर में किसान के गले में काला सांप लिपटा हुआ दिखाई दे रहा है जो तीन कृषि कानूनों का प्रतिनिधित्व करता है। 

सिंघू बार्डर पर मौजूद स्वयंसेवक जरनैल सिंह ने कहा कि रैली में सबसे आगे हमारा सबसे पवित्र ग्रंथ होगा। हम प्रसाद बांटेंगे और श्रद्धालु दर्शन करेंगे। गुरु ग्रंथ साहिब वाले पवित्र वाहन के पीछे लोग पैदल चलेंगे और उनके पीछे ट्रैक्टर होंगे। गाजीपुर बॉर्डर पर भाकियू अध्यक्ष चौ नरेश टिकैत और प्रवक्ता चौ राकेश टिकैत के नेतृत्व में बड़ी संख्या में किसान जुटे हैं।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा