पराली जलाने पर 38500रुपये



मुज़फ्फरनगर। जिले सेटेलाइट से मिली इमेज पर पराली व कूड़ा जलाने वालों से जुर्माना वसूला। 

जनपद  मुज़फ्फरनगर में पराली व कूडा जलाने के मामले रोकने के लिए दोषी पाए गए लोगों से 38500 रुपए का जुर्माना वसूला गया हैं एनजीटी के पराली न जलाने के आदेशों के प्रति किसानों की सजगता से जिले में पराली जलाने की मात्र 4 घटनाएं हुई हैं, बाकी कूड़ा जलाने के मामले मिले हैं। प्रशासन द्वारा पराली व कूड़ा जलाने वालों से हजारों रुपए का जुर्माना वसूला गया है। एडीएम प्रशासन अमित कुमार सिंह ने बताया कि सेटेलाइट से मिली तस्वीरों के मुताबिक जिले में आग जलाने की 37 घटनाएं सामने आई हैं, इनमें से खेतों में पराली जलाने के केवल 4 मामले मिले हैं। 9 घटनाएं कूड़ा जलाने की सामने आई है। बाकी बचे 24 मामले शीतलहर से बचने के लिए पराली या कूडा जलाकर हाथ सेंकने के निकले हैं। 

जिलाधिकारी एनजीटी के निर्देशों के अंर्तगत पराली व कूडा जलाने के मामले रोकने के लिए दोषी पाए गए लोगों से 38500 रुपए का जुर्माना वसूला गया हैं। उन्होंने कहा कि हाथ सेंकने में पराली व कूडे का इस्तेमाल रोकने के लिए नगरपालिका व नगर पंचायतों के अधिशासी अधिकारियों को क्षेत्र में ठंड से लोगों को बचाने के लिए अलाव जलवाने के निर्देश दिए गए हैं। किसानों के लिए पराली किसी परेशानी का सबब न बन सके। इसके लिए किसानों की 37 टन पराली गौशालाओं में भिजवाई गई हैं। किसानों को मल्चर और कंपोजर विधि का इस्तेमाल कर पराली को खेतों में उपयोग करने के प्रति जागरूक किया गया हैं। उन्होंने जनपद के सभी स्थानीय निकाय अधिकारियों को निर्देशित किया कि उनके क्षेत्र में कहीं भी सफाईकर्मियों द्वारा साफ-सफाई कर लाये गए कूडे को जलाने के मामले ना हो। कूडे का पर्याप्त तरीकों से ही निस्तारण किया जाए।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा