Monday, September 20, 2021

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की मौत से हडकंप, आनंद गिरी हिरासत में


प्रयागराज. अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उनकी मौत की खबर आने के बाद संत समाज के साथ सियासी खेमे में शोक की लहर देखी जा रही है. उनका शव फांसी पर लटका मिला है और सुसाइड नोट भी मिला, जिसके बाद उनकी मौत को लोग उनके पूर्व शिष्य नरेंद्र गिरी से विवाद से भी जोड़कर देख रहे हैं. 
सुसाइड नोट में कई नाम सामने आए हैं. पुलिस इसकी जांच में जुट गई है. आनंद गिरी को हिरासत में ले लिया गया है। उनके साथ आनंद का पहले विवाद हुआ था. इस विवाद के बढ़ने के बाद आनंद गिरी ने वीडियो जारी कर नरेंद्र गिरी के चरण पकड़कर माफी मांग ली थी. संत परंपरा के अनुसार नरेंद्र गिरी ने उन्हें माफ कर दिया था. इसके बाद भी ये मामला यहीं खत्म नहीं हुआ और उन्होंने सोमवार को आत्महत्या के पूर्व सुसाइड नोट में अपने शिष्य से परेशान होने की बात कही.

बताया गया है कि पंचायती अखाड़ा निरंजनी से निष्कासित किए जाने के बाद स्वामी आनंद गिरी और उनके गुरु अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी के बीच तकरार काफी बढ़ गई थी. इसी साल निष्कासन के बाद उन्होंने एक वीडियो जारी कर स्वामी आनंद गिरी ने अखाड़े की संपत्ति को लेकर गंभीर आरोप लगाए थे. उन्होंने आरोप लगाया था कि संपत्ति के विवाद में ही निरंजनी अखाड़े से जुड़े दो युवा संतों ने आत्महत्या कर ली थी और संदिग्ध परिस्थितियों में उनके शव पाए गए थे.

No comments: