Sunday, August 15, 2021

इबकै इन्होंने सेर के मुहं मै हाथ गेर दिया : नरेश टिकैत


सिसौली । इबकै इन्होंने सेर के मुंह मै हाथ गेर दिया। यह कहकर भाकियू अध्यक्ष चौ नरेश टिकैत ने भाजपा को खुली चुनौती दे दी। इससे लग रहा है कि सिसौली में भाकियू भाजपा विरोधी अखाड़ा बनाने में जुट गई है। 

गत दिवस केंद्रीय मंत्री डॉ0 संजीव बालियान ने विधायक उमेश मलिक पर हुए हमले पर कडा रुख अख्तियार करते हुए आरोपियों के खिलाफ कडी कार्यवाही के लिए जिला प्रशासन से कहा है। इस घटना के बाद देर रात हुई पंचायत में भाकियू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने कहा  कि यदि इस मामले में गिरफ्तारी हुई तो पहले हम गिरफ्तारी देंगे। उन्होंने कहा कि जिन्होंने चुपचाप यहां कार्यक्रम किया और उसको लेकर यह घटना हुई, उनके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज होना चाहिए। उन्होंने कहा कि विधायक के पाप का घड़ा भर गया है। हम एलान कर दें तो बालियान खाप में नहीं घुस पाएंगे। उन्होंने कहा कि कि पहले भी उमेश मलिक गांव में आते थे तो पहले उनके पास आते थे। 

भाकियू अध्यक्ष ने बुढ़ाना विधायक पर भी गंभीर आरोप लगाते हुए कहा विधायक के पाप का घड़ा भर गया है, सही काम करना इनके बस की बात नहीं है। विधायक बनाने में क्षेत्र की जनता ने हजारों वोट दिए। विधायक ने गांव-गांव पार्टीबाजी और विवाद खड़े कर दिए। ये अच्छा विधायक साबित नहीं हुआ। हम बदले की राजनीति में विश्वास नहीं करते। बदले के बारे में कमजोर व्यक्ति सोचते हैं। सभी का सम्मान करते हैं, दुश्मन को भी गले लगाया जाता है। भाकियू ने प्रशासन का हमेशा साथ दिया। कचहरी में चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत को चोट लग गई थी तब भी उन्होंने शांति और धैर्य से काम लिया था। विधायक पढ़ा लिखा समझदार व्यक्ति है। अगर हम घोषणा कर दें तो विधायक की बालियान खाप में भी घुसने की हिम्मत नहीं है। लेकिन हम कोई घिनौनी हरकत नहीं करते।

उन्होंने कहा कि जिले का प्रशासनिक अमला, मंत्री थाने में मौजूद है जो रिपोर्ट दर्ज करने की मांग कर रहा है। नरेंद्र सिंह भी वहीं पर था, मुकदमा हमारे पर भी दर्ज होगा। हम जिस पर हाथ रख देंगे वही गिरफ्तारी दे देगा। यदि गिरफ्तारी हुई तो पहले हम गिरफ्तारी देंगे। उन्होंने कहा कि 17 अगस्त को मासिक पंचायत सिसौली में होगी। पंचायत में देश खाप के चौधरी सुरेंद्र सिंह, पूर्व विधायक राजपाल बालियान आदि मौजूद रहे। विधायक पर हमले की घटना के बाद सिसौली में स्थिति तनावपूर्ण बनी है। कार्यक्रम के आयोजकों के घरों के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है।

जिन्हें भाकियू अध्यक्ष बालक बता रहे हैं वह पुलिस के सामने ही उत्पात करते रहे। भौराकलां थानाध्यक्ष बिजेंद्र सिंह रावत के साथ सिसौली में पहले से ही बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद थे। विधायक के विरोध की सूचना पर सीओ फुगाना शरतचंद्र शर्मा भी सिसौली पहुंच गए थे। जिस समय विधायक उमेश मलिक को दौड़ाया गया, उनकी गाड़ी पर कालिख फेंकी गई और पथराव कर गाड़ी तोड़ दी गई, सुरक्षा में तैनात सिपाहियों ने बड़ी मुश्किल में अपनी जान बचाई। पूरा घटनाक्रम बड़ी संख्या में मौके पर मौजूद पुलिस कर्मियों और पुलिस अफसरों की मौजूदगी में हुआ। सत्ताधारी विधायक की सुरक्षा पुलिस नहीं कर पाई। यदि विधायक का गाडी चालक किसी तरह गाड़ी नहीं निकाल पाता तो विधायक के साथ अनहोनी हो सकती थी। चलती गाड़ी पर भी पथराव होता रहा।

No comments:

Featured Post

कपिलदेव अग्रवाल व उमेश मलिक ने किया सडक सुरक्षा सप्ताह का उद्घाटन

मुज़फ्फरनगर। आज एआरटीओ कार्यालय पर एआरटीओ विनीत मिश्रा के निर्देशन में सड़क सुरक्षा सप्ताह का आयोजन किया गया है जिसमें उन्होंने सड़क सुरक्षा के...