वेस्ट यूपी आक्सीजन में मजबूत, मुजफ्फरनगर में हैं तीन इकाइयां

 


मुजफ्फरनगर । ऑक्सीजन उत्पादन और सप्लाई का काम पश्चिमी यूपी में अधिक है। ऐसे में सबकी निगाहें टिकी हुई हैं। 

वेस्ट यूपी में आगरा में आठ, मथुरा में दो, फिरोजाबाद में तीन, अलीगढ़ में पांच, बरेली में तीन, कानपुर नगर में चार, औरैय्या में एक, मुजफ्फरनगर में तीन, शामली में एक, गौतमबुद्ध नगर में एक, गाजियाबाद-सोलह, बुलंदशहर में दो, मेरठ में एक, बिजनौर में दो, मुरादाबाद में चार तथा कानपुर देहात में एक आक्सीजन उत्पादन और सप्लाई की इकाइयां हैं। इस प्रकार प्रदेश की कुल 90 इकाइयों में से आधे से अधिक इसी क्षेत्र में हैं। ये इकाइयां चिकित्सा संस्थानों तथा निजी हास्पिटलों के साथ ही उद्योगों को भी आक्सीजन की आपूर्ति का काम करती हैं। 

पूर्वी उत्तर प्रदेश में आक्सीजन उत्पादन और सप्लाई इकाइयों की संख्या बहुत कम है। वाराणसी, अयोध्या और प्रयागराज जैसे जिलों में महज एक-एक इकाई है। वाराणसी के पड़ोसी जिले चंदौली में छह इकाइयां हैं जिनसे वाराणसी के साथ ही आसपास के अन्य जिलों के आक्सीजन की मांग पूरी की जाती है। राजधानी लखनऊ में सात इकाइयां हैं। अयोध्या में एक, बाराबंकी में दो, अंबेडकरनगर में एक, अमेठी में दो, बहराइच में एक, गोरखपुर में तीन, लखनऊ में सात, प्रयागराज में एक, वाराणसी में एक, चंदौली में छह, मिर्जापुर में एक, संतकबीर नगर में एक तथा मऊ में आक्सीजन की दो इकाइयां हैं। वहीं बुंदेलखंड के झांसी में तीन इकाइयां हैं।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा