किसानों का आतंकी बताने वाली कंगना की फिल्मों का बायकाट करें: जयंत चौधरी





शामली। रालोद नेता जयंत चौधरी ने भाजपा सरकार पर अहंकार में किसानों का दमन करने का आरोप लगाते हुए कहा कि जो भी हक की आवाज उठाता है उसे कुचलने का काम भाजपा की सरकार कर रही है। उन्होंने किसानों को आतंकवादी बताने वाली कंगना की फिल्मों का बहिष्कार करने का आह्वान किया।

यहां भैंसवाल में आयोजित किसान महापंचायत में उन्होने कहा कि ग्रेटा थनबर्ग ने किसानों का समर्थन कर कौन सी गलत बात कर दी।  केंद्र सरकार पर किसानों और सच बोलने वालों का दमन करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि किसानों पर हमला करने वालों को पुलिस ने कुछ नहीं कहा। स्वतंत्र पत्रकार मनदीप पुनिया ने पोल खोली तो उन पर ही कार्रवाई कर उन्हें जेल में डाल दिया गया। हमारी बात लिखने-कहने वाले पत्रकार को कुछ कहा जाएगा तो हम पुरजोर विरोध करेंगे। किसान पर लाठीचार्ज करेगा तो वाजिब जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कृषि कानूनों की वापसी की मांग को लेकर धरने पर बैठे किसानों का उत्पीडन करने में सरकार जुटी है, लेकिन इससे वे दबने वाले नहीं है।ं किसान पर लाठीचार्ज करेगा तो वाजिब जवाब दिया जाएगा। वर्दी पहनने वाले अंतरात्मा की आवाज सुनेंगे और सही-गलत की पहचान करेंगे तो वर्दी पहनने वाला कोई भी किसान पर हाथ नहीं उठा सकता है। पंचायत इसलिए बुलाई गई थी कि उन लोगों की आंखें खुल जाएं, जो सरकार की ज्यादा नौकरी निभा रहे हैं। वह भी देख लें कि आप किसान के साथ अन्याय करोगे, किसान पर अंगुली उठाएगा तो आने वाली पीढ़ियों को भी हाय लगेगी। नौजवान दूसरे मूड में आए हैं। वो किसी को छोड़ने वाले नहीं हैं। किसानों ने देश की आजादी में योगदान दिया, देश को बनाने का काम कर रहे हैं, पेट पाल रहे हैं। आज तो तिरंगा भी किसान ने दिखा दिया। अब तो भाजपाइयों को दूसरा झंडा ही थामना पड़ेगा। जो तिरंगा नहीं फहराते थे, वो लोग आज आपको कह रहे हैं कि बागी हो गए। ये दलाल, ये झूठे लोग कह रहे हैं कि किसान आतंकवादी हैं। कंगना रनौत पर कहा कि उनका तो नाम लेना भी पसंद नहीं है। आगे उनकी एक पिक्चर मत देखना। अब तक जो देखली, वो माफ है। वो तुम्हे आतंकवादी बताती है। आपको पता है कि ये दिल्ली में बैठे शहंशाह की ही मित्रमंडली है।

आयोजन में हरियाणा के गायक अजय हुड्डा ने मोदीजी हम दिल्ली आ गये गाना गाया और सब झूम उठे।  महापंचायत में भाजपा नेता जितेंद्र निर्वाल ने पार्टी छोड़कर रालोद में शामिल होने  की घोषणा की।   प्रशासन ने महापंचायत के लिए अनुमति नहीं दी थी। इसके बावजूद भैंसवाल गांव में किसानों की महापंचायत हुई और इसमें किसानों की भारी भीड़ इकट्ठा हुई। रालोद के क्षेत्रीय अध्यक्ष चौधरी यशवीर सिंह ने कहा कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आक्रोशित है। महापंचायत में रालोद जिलाध्यक्ष योगेंद्र चैयरमेन, पूर्व एमएलसी मुश्ताक चौधरी, सपा जिलाध्यक्ष अशोक चौधरी, पूर्व मंत्री योगराज सिंह, खाप चौधरी सूरजमल, देशवाल खाप से सिंह, रामपाल सिंह, अनिल चौधरी, बाबा श्याम सिंह, निर्वाल खाप से धर्मवीर, ऋषिराज रझाड़ पहुंच चुके हैं। 

 रालोद के प्रदेश संगठन मंत्री, क्षेत्रीय अध्यक्ष समेत कई नेताओं ने इसमें भाग लिया। गुरुवार को एसडीएम संदीप कुमार ने शांतिभंग होने की आशंका जताते हुए महापंचायत की अनुमति के लिए दिया गया प्रार्थनापत्र निरस्त कर दिया था। इसके बावजूद रालोद नेताओं ने पंचायत करने की घोषणा की है।  गांव में जगह-जगह वाहनों को खड़े कराने व्यवस्था की गई थी। खुद डीएम और एसपी समेत तमाम अधिकारी स्थिति पर नजर रखे हुए थे। किसान महापंचायत को लेकर पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था की पूरी तैयारियां की। भारी पुलिसबल तैनात किया गया था। 

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

रालोद और भाकियू के नाम पर हुडदंग करने वालों पर लाठीचार्ज, पांच गिरफ्तार