ऋषि दयानंद की प्रेरणा गांव-गांव जगाए: गुरुदत्त

 

मुजफ्फरनगर। वैदिक संस्कार चेतना अभियान संयोजक आचार्य गुरुदत्त आर्य ने कहा कि संस्कारित युवा राष्ट्र और समाज की अमूल्य निधि है। ग्रामीण पुत्र-पुत्रियों को वैदिक संस्कृति के सिद्धांतों, आदर्शों और मूल्यों से जोड़े।


मंसूरपुर क्षेत्र के गांव दुधाहेड़ी में आयोजित यज्ञ में ग्रामीणों ने मानवमात्र के कल्याण, स्वास्थ्य और समृद्धि के लिए आहुतियां दी। प्रसिद्ध आर्य विद्वान आचार्य गुरुदत्त आर्य ने कहा कि युवा शक्ति का चरित्र, ब्रह्मचर्य, अनुशासन, ईमानदारी, आचरण ही जीवन में परिवार, समाज और देश की संपदा है। महर्षि दयानंद की वैचारिक प्रेरणा गांव-गांव पहुंचेगी, तभी कुरीतियों, अंधविश्वास, पाखंड, ढोंग से हिंदू जाति को मुक्ति मिलेगी। शिक्षा के साथ पुत्र-पुत्रियों को संस्कारित बनाये। यज्ञमान दीपक और अरुणा राठी रही। नीट परीक्षा के माध्यम से केजीएमयू लखनऊ में प्रवेश पाने वाले मेधावी विशेष धनराज राठी को आचार्य ने ऋषि दयानंद का चित्र भेंट किया। आंनद पाल सिंह आर्य, आर.पी.शर्मा, मंगत सिंह आर्य ने वैदिक साहित्य वितरित किया। वीरेंद्र सिंह, रत्न सिंह, नरेश पाल, आकर्षक दानवीर राठी, पूर्व प्रधान अशोक राठी, शौकेंद्र राठी, मास्टर संजीव, रालोद नेता पंकज राठी आदि मौजूद रहे। संचालन आर.पी.शर्मा ने किया।

---------------------------------

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा