प्रधानों के दिल में गूंज रहा दर्द का फसाना


लखनऊ। आज रात 12 बजे ग्राम पंचायतों का कार्यकाल पूरा होने के बाद बागडोर प्रशासन संभाल लेगा। 

राज्य सरकार ने पंचायत चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। यूपी को चार भागों में बांटा गया है और चुनाव तैयार हैं। क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत और ग्राम पंचायत के लिए चुनाव एक साथ होंगे। पंचायती राज विभाग 28 जनवरी से 5 फरवरी के बीच चुनाव के संभावित कार्यक्रम पर विचार कर रहा है। इसके बाद आयोग पंचायत चुनावों के लिए एक अधिसूचना जारी करेगा। राज्य सरकार 31 मार्च तक चुनाव कराकर पंचायतों का गठन करने का इरादा रखती है, ताकि अप्रैल में होने वाली बोर्ड परीक्षाओं पर कोई प्रभाव न पड़े। जनपद में अब 498 ग्राम पंचायतों की कमान प्रशासकों के हाथों में आ गई है। ग्राम प्रधानों का पांच साल का समयकाल पूरा होने पर डीएम ने एडीओ को प्रशासक नियुक्त किया है। जनपद के नौ ब्लाक में प्रशासक नियुक्त किए गए है। डीएम सेल्वा कुमारी जे. ने डीपीआरओ विभाग से चार, आईएसबी से तीन, कृषि विभाग से एक और सहकारिता विभाग से भी एक एडीओ को प्रशासक नियुक्त किया है। अब ग्राम पंचायतों के कार्य उक्त एडीओ प्रशासक के रूप में करेंगे। डीएम ने इन सभी एडीओ को ग्राम प्रधान और समितियों के समस्त शक्तियों, कृत्यो और कर्तव्यों के निर्वहन हेतु प्रशासक नियुक्त किया है। जनपद में 498 ग्राम प्रधानों का पांच साल का समयकाल समाप्त हो गया है। अंतिम समय में प्रधानों ने काफी पैसा अपनी ग्राम पंचायत पर खर्च किया है। ग्राम पंचायतों में करीब 18 करोड रुपए की धनराशि पूर्व में शेष रह गई थी, वहीं राज्यवित्त से भी तीन करोड की किश्त आयी थी। देर रात्रि तक ग्राम प्रधानों ने खातों से पैसा खर्च किया है। विभागीय साइट बंद होने के कारण खातों में कितना पैसा शेष रह गया है इसका अभी सहीं अंकल नहीं किया जा सकता है। डीएम सेल्वा कुमारी जे. ने शासन के आदेश पर प्रशासक नियुक्त किए ह। डीएम सेल्वा कुमारी जे. ने बताया कि डीपीआरओ विभाग से एडीओ प्रदीप कुमार को बघरा, योगेश्वर दत्त त्यागी को खतौली, मुकुटराज को जानसठ और चन्द्रप्रकाश शर्मा को मोरना प्रशासक नियुक्त किया गया है। वहीं आईएसबी से एडीओ ओमवीर सिंह को पुरकाजी, अमरीश कुमार को सदर, राजेन्द्र कुमार को चरथावल, कृषि रक्षा विभाग से एडीओ अनंगपाल को बुढाना और सहकारिता विभाग से एडीओ सुधीर कुमार गुप्ता को शाहपुर ब्लाक में प्रशासक नियुक्त किया गया है। डीएम ने बताया कि अब ग्राम प्रधानों और समितियों की समस्त शक्तियां प्रशासक के पास होगी।

पंचायत चुनाव चार चरणों में होने वाले हैं। इसीलिए यूपी को चार भागों में बांटा जाएगा। उदाहरण के लिए, पूर्वी यूपी, पश्चिमी यूपी, बुंदेलखंड और मध्य यूपी में राज्य के सभी 75 जिलों को विभाजित किया जाएगा। इसी के आधार पर चुनाव का कार्यक्रम तैयार किया जा रहा है। पंचायती राज विभाग के एक अधिकारी के अनुसार, राज्य को चार भागों में विभाजित करके चुनाव करना आसान होगा। इसके आधार पर, आवश्यकतानुसार सुरक्षा व्यवस्था की जाएगी और कोई बोझ नहीं होगा। हालांकि, अभी इसे अंतिम रूप नहीं दिया गया है।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा