Monday, October 4, 2021

श्रीराम काॅलेज में तीन दिवसीय योग चिकित्सा शिविर का हुआ शुभारम्भ

 





 मुजफ्फरनगर ।श्रीराम काॅलेज में आज तीन दिवसीय योग चिकित्सा शिविर का विधिवत् शुभारम्भ मुख्य अतिथि लाला चतरसैन जैन मैमोरियल प्राकृतिक चिकित्सा योग एवं शोध संस्थान के मुख्य चिकित्सक डा0 धीरेन्द्र गुप्ता, श्रीराम काॅलेज के निदेशक डा0 आदित्य गौतम, श्रीराम काॅलेज की प्राचार्या डा0 प्रेरणा मित्तल, तथा महाविद्यालय के डीन एकेडमिक्स डा0 विनीत कुमार शर्मा द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। शिविर में बडी संख्या में लोगो ने हिस्सा लिया और अपनी शारीरिक और चिकित्सा जांच के साथ-साथ योग के संबंध में जानकारी ली। 

इस अवसर पर श्रीराम काॅलेज की विभिन्न संकाय के अध्यापक गण तथा छात्र-छात्राओं द्वारा बडी उत्सुकता से प्रतिभाग किया गया। शारीरिक शिक्षा विभाग के प्रवक्ता डा0 अरविन्द वैदवान ने बताया कि यह योग चिकित्सा शिविर दिनंाक 04.10.2021 से 06.10.2021 तक संचालित किया जायेगा तथा महाविद्यालय द्वारा प्रतिमाह ऐसे चिकित्सा शिविर का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने आगे बताया कि आगामी 07 अक्टूबर 2021 से महाविद्यालय में प्रतिदिन सुबह प्रातः 6 बजे से प्रातः 7 बजे तक निःशुक्त योग की कक्षायें भी चलाई जायेगी। 

 तीन दिवसीय योग चिकित्सा शिविर में सर्वप्रथम प्रतिभागियों द्वारा वैदिक प्रार्थना की गई उसके बाद डा0 अरविन्द वैदवान, योगी सुनील कुमार एवं योगाचार्या साक्षी शर्मा द्वारा प्रतिभागियों की विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों जैसे- मर्म चिकित्सा, एक्यूप्रेशर चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, स्वर योग एवं योगासन, प्राणायाम, ध्यान जैसी अनेक प्रकार की योग क्रियाओं द्वारा प्रभावी चिकित्सा की गयी। साथ ही जीवन में योग के महत्व को समझाते हुए श्रीराम काॅलेज की प्राचार्य डा0 प्रेरणा मित्तल द्वारा मानव जीवन में योग के महत्व पर व्याख्यान दिया गया। 

इस अवसर पर मुख्य अतिथि डा0 धीरेन्द्र गुप्ता ने कहा कि योग से व्यक्ति सम्पूर्ण स्वास्थ्य को प्राप्त कर सकता है साथ ही उन्होंने योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा के महत्व को भी समझाया। उन्होंने कहा कि योग एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है जिसमें शरीर मन और आत्मा को एक साथ लाने (योग) का काम होता है। 

इस अवसर पर डाॅ0 आदित्य गौतम, निदेशक, श्रीराम काॅलेज में उपस्थित प्रतिभागियों तथा छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुये कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निर्माण होता है और शरीर एवं मस्तिष्क को स्वस्थ रखने का एक मात्र उपाय योगाभ्यास होता है जो हमारे जीवन को सकारात्मक परिवर्तन की ओर लेकर जाता है। इसके लिये प्रत्येक शिक्षकगण का दायित्व है कि योग अभ्यास को अपने जीवन में अपनाने के साथ-साथ विद्यार्थियों को भी योगाभ्यास के लिये प्रेरित करना चाहिये। 

इस अवसर पर श्रीराम काॅलेज की प्राचार्य डा0 प्रेरणा मित्तल द्वारा शिविर में उपस्थिति प्रतिभागियों को योग के लाभ बताते हुये कहा कि ऐसा दौर जब हमारे आस-पास मोबाईल फोन टेलिविजन और कई अन्य सुविधाएं है वही हमारे लिये योग की ओर ध्यान केंद्रित करना भी जरूरी हो गया है। प्रतिदिन की भाग दौड में मनुष्य अपने स्वास्थ की उचित देखभाल नहीं कर पाता यदि हम सभी प्रातः उठकर योग करने की आदत बना ले तो निश्चित तौर पर स्वास्थ लाभ प्राप्त होगा । 

इसके पश्चात् शारीरिक शिक्षा विभाग के प्रवक्ता डा0 अरविन्द वैदवान ने कहा कि योग को परिभाषित करते हुये कहा कि जीवन में बुराईयों को त्यागकर अच्छाइयों को धारण करना ही वास्तव में योग है। योग से मनुष्य का शरीर जहाॅ स्वस्थ रहता है वही मनुष्य को ध्यान केंद्रित में आसानी होती है। यदि मनुष्य अपनी जीवन शैली को अनुशासित करें और खान-पान में संतुलित भोजन का प्रयोग करते हुये जीवन को योग से जोडे तो निश्चित ही मानसिक तनाव, मधुमेह एवं मोटापे जैसे रोगो से मुक्ति पाई जा सकती है। 

 इस अवसर पर महाविद्यालय के कोषाध्यक्ष देवेन्द्र चैधरी, श्रीराम काॅलेज के प्रवक्तागण निशांत राठी, प्रमोद कुमार, भूपेन्द्र कुमार, संदीप कुमार, प्रशान्त आदि उपस्थित रहें।

No comments: