कैराना के आतंकी हैं रिटायर्ड फौजी के बेटे


शामली। कभी पाकिस्तान से तस्करी के गठरी कारोबार में बदनाम रहे कैराना का नाम अब आईएसआई से जुड रहा है। हैदराबाद से गिरफ्तार तश्कर-ए-तैयबा के आतंकी कैराना के मूल निवासी दोनों भाई इमरान खान उर्फ इमरान मलिक और नासिर खान कई वर्षों से हैदराबाद में रहकर कपड़ा बेचने का काम कर रहे थे। उनका पिता मूसा खान रिटायर फौजी है और कैराना में अपने घर पर अकेला रहता है। गुरुवार को वह घर पर नहीं मिला। किरायेदार ने बताया कि घुटने का ऑपरेशन कराने के लिए मुजफ्फरनगर गया हुआ है।

17 जून को बिहार के दरभंगा रेलवे स्टेशन पर सिकंदराबाद से आए कपड़े के बंडल से धमाका हुआ था।तभी से यूपी बिहार तेलगाना की एटीएस टीम मामले की जांच कर रही थी। बाद में ब्लास्ट की जांच को एनआईए को सौंप दिया गया था। एनआईए ने प्रेस नोट जारी करते हुए जानकारी दी है कि हैदराबाद में दो आतंकवादियों को गिरफ्तार किया गया है।जिनके नाम इमरान खान और नासिर खान दोनों सगे भाई हैं और मूल रूप से जनपद शामली के कस्बा कैराना के मोहल्ला कस्थवाड़ा के रहने वाले हैं।साथ ही पकड़े गए दोनों आतंकवादियों के पिता मूसा खान भूतपूर्व सैनिक हैं।जो 1962 में भारत चीन के बीच हुए युद्ध में लड़ाई लड़ चुका है।गुरुवार को जब मीडिया ने कैराना कस्बे के मोहल्ला कस्थवाड़ा में पहुंचकर दोनों आतंकवादियों के घर जाकर देखा तो घर पर ताला लगा हुआ था। जिसके बाद आस पड़ोस के लोगों ने बताया कि मीडिया द्वारा इमरान और नासिर की हैदराबाद में पकड़े जाने की जानकारी प्राप्त हुई है।जो हैदराबाद में रहकर कपड़े का कारोबार करते हैं। 23 जून को भी मोहल्ला ऑल खुर्द एवं मोहल्ला बिसातयान निवासी कपिल एवं सलीम को एटीएस ने उठाकर ए एन आई को सौंप दिया था। जिस तरह बम धमाकों में कैराना से इतने लोग उठाए जा चुके हैं। एक बार फिर कैराना पर यह बदनुमा दाग लग गया है।

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

रालोद और भाकियू के नाम पर हुडदंग करने वालों पर लाठीचार्ज, पांच गिरफ्तार