संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत 12 से 25 जुलाई तक चलेगा अभियान :सीएमओ




    सहारनपुर। जनपद में 31 जुलाई तक चलाये जा रहे संचारी रोग नियंत्रण अभियान और दस्तक अभियान के अन्तर्गत 12 से 25 जुलाई तक विशेष दस्तक अभियान चलाया जायेंगा। अभियान के अंतर्गत आशा, आगंनवाडी कार्यकर्ता  और फ्रंट लाइन वर्कर्स मुख्य जिम्मेदारी निभाएंगी। प्रशिक्षित फ्रंट लाइन वर्कर्स घर-घर भ्रमण कर विभिन्न रोगों के नियंत्रण एवं उपचार की जानकारी प्रदान करने के लिये प्रचार प्रसार एवं व्यवहार परिवर्तन गतिविधियां संचालित करेंगे।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. संजीव मांगलिक ने जानकारी देते हुए बताया कि संचारी रोग नियंत्रण अभियान की सफलता के लिए ग्राम प्रधानों के सहयोेग से गाॅवों में साफ-सफाई के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आशा आगंनवाडी कार्यकर्ता इस अभियान के अतंर्गत कुपोषित बच्चों तथा विभिन्न रोगों के लक्षण युक्त व्यक्तियों का चिन्हीकरण कर सूचीबद्व करेंगी। उन्होंने बताया संचारी रोग नियंत्रण अभियान के तहत 12 से 25 जुलाई  तक दस्तक अभियान चलेगा। जिले में 11 ब्लाॅक में आशा, आगंनवाडी कार्यकर्ता को डयूटी लगाई गई है, जो घर-घर जाकर लोगों को बीमारी के प्रति जागरूक करेंगी तथा मरीजों की लिस्ट तैयार कर विभाग को सौपेगी। इस दौरान कोविड से ठीक हुए मरीजों, एक हफ्ते से ज्यादा बुखार या खांसी रहने वाले लोगों तथा कुपोषित बच्चों पर फोकस रहेगा। अभियान के तहत मिलने वाले मरीजों को संबधित चिकित्सक से उचित उपचार उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होने बताया कुपोषित मिलने वाले बच्चों की सूची बाल विकास  एवं पुष्टाआहार विभाग को सौंपी जाएगी। जिनके माध्यम से बच्चों को पोशण पुनर्वास केन्द्र एनआरसी मे रेफर किया जायेगा, इसी तरह टी0बी0 के मरीजों को क्षय रोग विभाग को मरीजों की सूची भेजी जाएगी। उन्होने मुख्य रूप से पाॅच बिन्दुओं-बुखार, आई0एल0आई0, टी0बी0, कुपोशित और दिव्यांगता पर फोकस करना है। विष्व स्वास्थ्य संगठन डब्लू0एच0ओ0 व यूनिसेफ के कार्यकर्ता, आषा, आगनवाडी कार्यकता के द्वारा किये जा रहे कार्यो की निगरानी करेगे।  

क्या करे- 

1. दिमागी बुखार का टीका जरूर लगवाएं।

2. मच्छरों के काटने से बचें मच्छरदानी, मच्छर, अगरबत्ती या काॅयल वगैरह का प्रयोग करें। पूरे आस्तीन की कमीज, फुल पैट मोजे पहनें।

3. सुअरों को घर से दूर रखें। रहने की जगह साफ सुथरा रखें एवं जाली लगवायें।

4. पीने के लिए इंडिया मार्का हैण्ड पम्प के पानी का प्रयोग करें। पानी हमेषा ढक कर रखें छिछला हैण्ड पम्प के पानी को खाने पीने में प्रयोग न करें।

5. पक्के व सुरक्षित षौचालय का प्रयोग करे।

6. शौच के बाद व खाने के पहले साबुन से हाथ अवश्य धोये।

7. नाखूनों को काटतें रहें। लम्बे नाखूनों से भोजन बनाने व खाने से भोजन प्रदूषित होता है।

8. दिमागी बुखार के मरीज को दाएं या बाएं करवट लिटाएं। यदि तेज बुखार हो तो पानी से बदन पोछते रहे।

क्या न करे-

9. बेहोशी व झटके की स्थिति में मरीज के मुॅह में कुछ भी नही डालें।

10. झोला छाप डाक्टरों के पास ना जायें।

11. घर के आस पास गंदा पानी इकट्ठा न होने दें।

12. इधर-उधर कूडा-केचरा व गंदगी न फेलायें।

13. खुले मैदान या खेतों में षौच न करें।

 रिपोर्ट। रमन गुप्ता/सुधीर गुप्ता

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

रालोद और भाकियू के नाम पर हुडदंग करने वालों पर लाठीचार्ज, पांच गिरफ्तार