आईएमए ने गठित की कोविड टास्क फोर्स


मुजफ्फरनगर । इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, ब्रांच मुज़फ़्फ़रनगर द्वारा कोविड टास्क फ़ोर्स का गठन किया गया है। 

आईएमए मुजफ्फरनगर के अध्यक्ष डा. एमएल गर्ग के नेतृत्व में  कोविड टास्क फोर्स का गठन किया गया जिसके डा. अशोक शर्मा अध्यक्ष और डा. सुनील सिंघल कोर्डिनेटर नियुक्त हुए। इसमें डा. एमएल गर्ग चेस्ट फीजिशियन अध्यक्ष आईएमए, डा. अशोक शर्मा सर्जन, डा. सुनील सिंघल डा. हेमन्त शर्मा , डा. रविंद्र जैन बच्चा रोग विशेषज्ञ, डा. विनीता सिंघल, डा0 निशा मलिक, डा. रेखा सिंह स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ, डा. रविंद्र सिंह, अनिल कुमार कक्कड फिजिशयन, डा. मुकेश जैन, डा. राजेश्वर सिंह हड्डी रोग विशेषज्ञ, डा. डीएस मलिक, डा. डीपी सिंह सर्जन, डा. एमके तनेजा नाक, कान गला रोग विशेषज्ञ, डा. आरएन त्यागी, डा. रवि त्यागी नेत्र रोग विशेषज्ञ अपनी सेवाएं देंगे। उक्त सभी डाक्टरों के मोबाइल नम्बर अपडेट किये जायेंगे। 

इस दौरान अध्यक्ष एमएल गर्ग ने कहा किआक्सीजन जमा न करे, कोविड के लिए मास्क का प्रयोग करो, नाक मुंह ढका हुआ हो। टास्क फोर्स के गठन का उद्देश्य नागरिकों के अंदर कोविड-19 की भ्रंातियों को दूर करना है। सबसे पहले भ्राति यह है कि नागरिक पैनिक हो रहे है कि आक्सीजन की कमी होने पर मरीज की मृत्यु तक हो सकती है जोकि गलत है। यदि मरीज की आक्सीजन 90-94 के बीच में है तो कोविड-19 का मरीज पेट के बल उल्टा लेटे और छाती के नीचे एक तकिया रखकर लम्बी-लम्बी सास ले। इससे आक्सीजन अवश्यक बढ जायेगी। यदि आक्सीजन 90 से नीचे है तो आक्सीजन लगाने की आवश्यकता होती है।  आक्सीजन डाक्टर के द्वारा निर्देश पर ही आक्सीजन उपलब्ध करायी जायेगी। अतः आक्सीजन को अपने घर पर बेवजह स्टाक न करे क्योंकि यह आक्सीजन जरूरतमंद मरीजों के लिए ही है। सभी व्यक्ति एवं मरीज मास्क अवश्य लगाये और मास्क को लगाने के लिए नाक और मुंह दोनांे सही प्रकार से ढके हुए होने चाहिए। मास्क मोटे कपडे का नहीं होना चाहिए बाजार के अंदर जो थ्री लियर वाला मास्क मिलता है वो सबसे उत्तम होता है। उसी का उपयोग करे। 1 मई 2021 से सभी व्यक्ति जिनकी उम्र 18 से ऊपर है अस्पताल में जाकर निःशुल्क वैक्सीनेशन अवश्य कराये। इसके लगानेे से शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करती है।   दवाईयों की किसी भी प्रकार की कोई भी कालाबाजारी न करे। इसके अलावा व्हाट्सअप पर आई खबरों पर ध्यान न दे जो भी इलाज लेना है चिकित्सक की सलाह पर ले। खाने में तली हुई चीजों का या बाजार से लाये हुए फास्ट फूड आदि का इस्तेमाल न करें । डाइट में ताजे फल, ताजी सब्जियां खूब खाये। लिक्विड डाइट का भी इस्तेमाल करे जिससे शरीर के अंदर पानी की मात्रा की कमी न होने पाये। नारियल पानी भी पी सकते है। हाथों को समय समय पर सैनेटाइज करे। दवाई भी, कडाई भी व दो गज की दूरी पर भी विशेष ध्यान रखे। भीड भाड़ वाले इलाकों से बचे घर पर रहे और किसी को भी अपने घर पर न बुलाये। बेवजह भीड़ इकट्ठा न करे। शादी-विवाह में कम से कम मेहमानों केा आमंत्रित करे। हमेशा अपने चिकित्सक के सम्पर्क में बने रहे।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा