राज्य कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर धरना देकर किया उपवास

 मुजफ्फरनगर। राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश के आह्ववान पर जिलाधिकारी कार्यालय पर विशाल धरना एवं उपवास आयोजित किया गया। इसके उपरान्त मुख्यमंत्री को जिलाधिकारी के माध्यम से ज्ञापन प्रेषित किया गया । 

परिषद के जिला अध्यक्ष संजीव कुमार लाम्बा ने मुख्यमंत्री से निवेदन किया कि कर्मचारियों की समस्याओं का निराकरण तत्काल प्रभाव से कराया जायें । उन्होंने कहा हमारी मंशा कभी भी विषम परिस्थिति उत्पन्न करने की नहीं है जिससे कर्मचारियों को सड़क पर उतरना पड़े। परन्तु सरकार की समस्याओं के प्रति संवेदनहीनता हमे इस प्रकार के आन्दोलन करने पर विवश कर रही है । उन्होने कहा कि सरकार तत्काल प्रभाव से नई पेंशन योजना को समाप्त करते हुए पुरानी पेंशन योजना बहाल की जायें, कोरोना काल मे फ्रिज किये गये भत्तो को तत्काल प्रभाव से लागू किया जाये । निजीकरण, आउटसोर्सिंग एवं ठेकेदारी व्यवस्था पूर्णतयः समाप्त की जायें । संविदा एवं आउटसोर्सिंग व अन्य माध्यमो से कार्यरत कर्मियों को समान कार्य का समान वेतन निर्धारित किया जायें । छठे वेतन आयोग की विसंगतियों को तत्काल दूर किया जाये । कैशलेस इलाज का लाभ सभी कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से दिया जायें । राजस्व संर्वग सेवानियमावाली 1954 संसोधन हेतु विगत कई वर्षो से लम्बित है को शीर्ष पर प्रख्यापन कराया जायें । परिवहन निगम, वाणिज्य कर, वन विभाग, पशु चिकित्सा फार्मासिस्ट, नलकूप खण्ड, गन्ना विभाग आदि विभागो की समस्याओं को तत्काल प्रभाव से दूर किया जायें । यदि उपरोक्त मांगो पर सरकार सहानुभूतिपूर्वक विचार करते हुए लागू नहीं करती है तो प्रान्तीय आह्ववान पर जो भी आन्दोलनात्मक निर्णय लिया जायेगा उसका हम पालन करेंगे, जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।

धरने में मुख्य रूप से सुधीर चैधरी, केसी राय , डा सचिन कुमार जैन, सुधीर कुमार, अंशुल मैनी, सुनील कुमार, मदनपाल, पवन गिरी, नेत्रपाल, वन्दना, सिस्टर सरिता चैधरी, सिस्टर मिली एव शारदा लाल आदि कर्मचारियों ने भाग लिया।

Comments

Popular posts from this blog

राज्य कर्मचारियों को भी मिलेगा बढा महंगाई भत्ता

डीएम सेल्वा कुमारी जे का तबादला, मनीष बंसल होंगे नये डीएम!

रालोद और भाकियू के नाम पर हुडदंग करने वालों पर लाठीचार्ज, पांच गिरफ्तार