जींद में किसान ने दो एकड़ में खड़ी गेहूं की फसल पर चलाकर ट्रैक्टर नष्ट की

जींद।  कृषि कानूनों को रद्द न करने से खफा हरियाणा के जींद जिले के एक किसान ने अपनी दो एकड़ भूमि पर खड़ी गेहूं की फसल पर ट्रैक्टर चलाकर नष्ट कर दी।

जींद जिले के गुलकनी गांव निवासी राम मेहर रविवार को ट्रैक्टर लेकर अपने खेत में पहुंचा और दो एकड़ में लगी फसल की जुताई कर दी। इस दौरान राम मेहर के परिवार की महिलाओं के अलावा काफी संख्या में किसान भी खेत में पहुंचे थे। दस एकड़ की खेतीबाड़ी करने वाले राम मेहर ने बताया कि अगर फसल को पकाव की तरफ ले जाता हूं तो खर्च ज्यादा बढ़ेगा और आगे भाव भी सही मिलने की कोई गारंटी नहीं है। उन्होंने बताया कि फसल के भंडारण करने का उसके पास कोई साधन नहीं है। राम मेहर ने कहा कि इससे अच्छा है कि फसल को पकने से पहले ही नष्ट कर दिया जाए, ताकि नुकसान से बचा जा सके और अगर फसल पकने पर उसे जलाते हैं तो वायु प्रदूषण होगा और जमीन की उर्वरता भी समाप्त हो जाएगी। साथ ही अवशेष फूंकने पर सरकार के कानूनी दायरे में आएंगे। इस बीच आगामी गेहूं की फसल के सीजन को देखते हुए अब खटकड़ टोल पर दिए जा रहे धरने पर किसान शिफ्टों में धरने पर आएंगे। हर रोज 15 गांवों के किसानों के धरने पर आने की रणनीति तय की हुई है। धरने में भाकियू के जिला अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी भी शामिल हुए। चढूनी ने कहा कि जब तक ये कानून वापस नहीं लिए जाएंगे तब तक धरना समाप्त नहीं होगा।

Comments

Popular posts from this blog

शुक्र बदल रहे हैं राशि : जानिए आपकी राशि पर प्रभाव

यूपी में 19 से जूनियर और 1 दिसंबर से प्राइमरी स्कूल खुलेंगे

यू पी में आड. इवन की तर्ज पर खुलेंगे बाजार, सरकार ने हाईकोर्ट में कहा