Friday, January 29, 2021

फिर गाजीपुर में विरोध के स्वर हुए तेज, गैर भाजपा दल एकजुट


 गाजीपुर । राकेश टिकैत के आंसू प्रशासन पर भारी पड़ रहे हैं। धरने को जबरन हटाने का इरादा वापस ले लिया गया और बडी संख्या में किसानों का जमावड़ा गाजीपुर बॉर्डर पर फिर शुरू हो गया है। 

किसानों के गुस्सा होने के बाद पुलिस को पीछे हटना पड़ा। देर रात पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स जिन गाड़ियों से वहां पहुंची थी, उन्हीं गाड़ियों से उन्हें वापस लौटना पड़ा। बता दें कि शाम से ही गाजीपुर बॉर्डर पर तनाव सा माहौल था। ऐसा लग रहा था कि कल की रात कुछ भी हो सकता था। मगर आसपास के इलाकों से किसानों के कूच करने की खबर ने आंदोलन को बल दिया और पुलिस को पीछे हटना पड़ा। आंदोलन स्थल पर किसानों का आना लगातार जारी है। बिजली फिर चालू हो गई है और दिल्ली सरकार पानी के टैंकर आदि की व्यवस्था कर रही है। 

टिकैत के दांव में भाजपा फंस गई है और लंबे समय से आंदोलन कर रहे किसानों को एक बार फिर से कांग्रेस, आरएलडी समेत कई दलों के नेताओं का समर्थन मिला। टिकैत के रोते हुए वीडियो को देखने के बाद आरएलडी मुखिया चौधरी अजित सिंह भी साथ आ गए। उन्होंने  टिकैत और भाकियू अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत से बात की। रात में करीब पौने आठ बजे के बाद जयंत चौधरी ने ट्वीट करके जानकारी दी। जयंत चौधरी ने कहा कि चिंता मत करो, किसान के लिए जीवन मरण का प्रश्न है। सबको एक होना है, साथ रहना है। यह संदेश चौधरी साहब ने दिया है। वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार शाम ट्विटर पर कहा कि यह साइड चुनने का साइड चुनने का समय है। मेरा फैसला साफ है। मैं लोकतंत्र के साथ हूं, मैं किसानों और उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के साथ हूं।

No comments:

Featured Post

कोतवाल को नौकरी खाने की धमकी देने का पूर्व प्रधान का आडियो वायरल होने से हडकंप

  मुजफ्फरनगर। तेजतर्रार एसएसपी के जिले में एक पूर्व प्रधान द्वारा कोतवाल को खुलेआम फोन पर धमकी दिए जाने के बाद प्रधान पर शिकंजा कसने की तैया...